loading...

zakir-naik

loading...

मुंबई। आतंकवादियों के गुरु व इस्लामी उपदेशक जाकिर नाईक के अब दो-तीन हफ्ते तक देश में लौटकर आने के आसार नहीं है। उसके सऊदी अरब से आज यहां लौटकर आने की उम्मीद थी, लेकिन अब वह कुछ अफ्रीकी देशों में सार्वजनिक व्याख्यान देने की योजना बना रहा है। नाईक के एक सहायक ने बताया कि नाईक ने यहां स्काइप के जरिये कल होने वाला अपना संवाददाता सम्मेलन भी रद्द कर दिया है जो वह अपने भाषणों के जरिये आतंकवादियों को प्रेरित करने के आरोपों को लेकर संबोधित करने वाला था।

उन्होंने कहा कि जाकिर नाईक को मंगलवार को होने वाली मीडिया ब्रीफिंग में स्वयं उपस्थित नहीं होना था। उन्होंने निर्णय किया था कि वह स्काइप के जरिये मीडिया को संबोधित करेंगे और मीडिया कर्मियों के जो भी सवाल होंगे, सभी का जवाब देंगे। उन्होंने कहा कि नाइक का यात्रा कार्यक्रम काफी पहले बन चुका था। उमराह में व्याख्यान देने के बाद उनका जेद्दाह जाने का कार्यक्रम है, जहां से वह अपने सार्वजनिक व्याख्यान देने के लिए अफ्रीका जाएंगे। उनके कम से कम अगले दो-तीन हफ्ते तक देश में आने की संभावना नहीं है। बहरहाल, उन्होंने यह भी कहा कि नाईक किसी जांच से भाग नहीं रहा है तथा वह पहले से ही बनाये गये अपने यात्रा कार्यक्रम का पालन कर रहा है। भारत में निगरानी में आने के अलावा नाईक के पीस टीवी पर बांग्लादेश ने प्रतिबंध लगा दिया है।

शिवसेना ने नाइक के भारत में प्रवेश करते ही उसकी गिरफ्तारी तथा उसके टीवी नेटवर्क को खत्म करने की मांग की है। समाजवादी पार्टी की महाराष्ट्र इकाई के अध्यक्ष अबु आजमी ने नाइक के समर्थन में सामने आते हुए जानना चाहा कि यदि उसके भाषण आतंकवादियों को प्रेरित कर रहे थे तो पिछले 25 सालों में कोई कार्रवाई क्यों नहीं की गयी। आजमी ने उसके खिलाफ आरोपों की निष्पक्ष जांच करवाने को कहा।

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें