loading...

Power-bank

loading...

आज के लोग संचार से लेकर मनोरंजन तक में स्मार्ट फोन का बहुतायत से इस्तेमाल करते है। अक्सर बस, ट्रेन, मेट्रो, कार मे लोग विडिओ देखते और कानों में इअर फोन लगा कर गाना सुनते रहते है, व्हाट्सएप और फेसबुक तो हर युवा की दिलों की धड़कन बन चुकी है, ट्रैवल्स के दौरान बच्चे गेम भी खेलते रहते है, और इन सबमे मोबाईल की बैटरी तेजी से खर्च होती है और ऐसी जगहों पर बैटरी चार्ज करना एक चुनौती से कम नहीं है| पावर बैंक ने इस मुसीबत से निजात दिला दी है, यह मोबाईल की तरह एक छोटा डिवाइस है जिसे आप आसानी से पॉकेट में लेकर घूम सकते है, पावर बैंक से आप अपने फोन की बैटरी एक या दो बार पूरी तरह चार्ज कर सकते है, बाज़ार में हर तरह के ब्रांड के पावर बैंक उपलब्ध है।

आइये जानते है इस पावर बैंक का काम क्या है?

पावर बैंक का काम:– पावर बैंक को आप एक तरह का एनर्जी स्टोरेज कह सकते है। वास्तव में यह एक तरह की विशेष बैटरी है। जिसे आप वक़्त पड़ने पर इस्तेमाल कर सकते है, यह बेहद आसान है। आप इसे घर में चार्ज कर लीजिए और बाद में जरुरत पड़ने पर इससे अपना मोबाईल चार्ज कर लीजिए। पावर बैंक को आप कहीं भी चार्ज कर सकते है। यह यूनिवर्सल चार्जर होता है। यानि आपको अलग-अलग डिवाइस के लिए अलग-अलग चार्जर रखने की जरुरत भी नहीं है। वाई-फाई, हॉटस्पॉट वाले कई कॉम्बो पावर बैंक भी उपलब्ध है जो आपके मौजूदा वायरलैस नेटवर्क से जुड़कर कई दुसरे डिवाइस से इन्टरनेट ब्रिज कनेक्शन तैयार कर सकते है।

क्षमता:– आपके दिमाग में यह सवाल आ सकता है की आपको कितनी क्षमता का पावर बैंक लेना चाहिए। यह आपकी जरुरत पर भी निर्भर करता है यदि आप यात्रा में कई डिवाइस लेकर चलते है तो उच्च क्षमता और यदि सिर्फ मोबाईल लेकर चलते है तो कम क्षमता वाला पावर बैंक भी चलेगा।  पावर बैंक खरीदने से पहले आप यह भी देख ले की आपके मोबाईल की बैटरी एम्एच क्षमता कितनी है। मान लीजिए की आपके मोबाईल की बैटरी 2500 एमएच की है तो आपको कम से कम 3000 एमएच बैटरी क्षमता का पावर बैंक खरीदना चाहिए और यदि आप 5000 क्षमता का पावर बैंक खरीदते है तो आप अपना फोन 2 बार चार्ज कर सकते है।

सुरक्षा:– पावर बैंक खरीदने से पहले कुछ चीजों का ध्यान रखना आवश्यक है, सस्ते ब्रांड वाले पावर बैंक ऐसे भी पाए जाते है जिनमे न तो एमएच कैपसिटी की और न तो करंट फ्लो की सही जानकारी दी गई होती है, ऐसे पावर बैंक में ओवर हिटिंग की समस्या आ सकती है इसलिए पावर बैंक खरीदने से पहले यह देख ले की इसमें ओवर वोल्टेज प्रोटेक्शन (ओवीपी), शार्ट सर्किट प्रोटेक्शन (एससीपी), ओवर चार्ज प्रोटेक्शन(ओसीपी) और ओवर टेम्परेचर प्रोटेक्शन (ओटिपी) हो, सस्ते पावर बैंक से आपके मोबाईल को भी नुक्सान हो सकता है।

सेल:– पावर बैंक खरीदते समय उसमे किस तरह का सेल इस्तेमाल किया गया है इस बात पर भी ध्यान देना आवश्यक है, लिथियम-पॉलीमर या लिथियम आयन। एलआई-पॉलीमर सेल महंगा होता है जबकि एलआई-आयन सेल सस्ता होता है और इसके पावर बैंक बाजार में ज्यादा उपलब्ध है। एलआई-पॉलीमर एलआई-आयन की तुलना में प्रति यूनिट दोगुना चार्ज करता है।

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें