loading...

jhkkk

loading...
‘तू लड़की है, आख़िर कर ही क्या लेगी? तेरा काम है पति की सेवा करना और बच्चे संभालना। गांव की बहू होकर मर्दों के संग अखाड़े में कुश्ती करती है, कैरेक्टरलेस है।’

ऐसे ही न जाने कितने तानों के जहर वह पीती रही है। यह कहानी है भिवानी में रहने वाली एक लड़की नीतू सरकार की, जिसकी 13 साल की छोटी उम्र में शादी करा दी गई। 14 की उम्र में वह जुड़वा बच्चों की मां बन गई। लेकिन उसने अपने सपनों को मरने नहीं दिया। उसने बचपन से पहलवान बनने का सपना संजोकर रखा था, और इसे पूरा किया।

नीतू जब 13 साल की थी, जब उसकी शादी 30 साल के व्यक्ति के साथ कर दी गई, जिसकी मानसिक हालत ठीक नहीं थी। यही नहीं, उसके ससुर ने उसके साथ बलात्कार की कोशिश की। गुड्डे गुडिए से खेलने की उम्र में उसे घर से भागना पड़ा।

1 of 7
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
स्रोतtopyaps.com
शेयर करें