loading...

नई दिल्ली। कहते हैं कुछ तारीखें अपने साथ इतिहास लेकर आती हैं। 13 दिसंबर 2001 की तारीख भी इतिहास में दर्ज हो जाने के लिए आई। भारतीय लोकतंत्र को थर्रा देने के लिए आई। पूरा देश भौचक था कि आखिर संसद पर हमला कैसे हो सकता है।   narendramodi1697290038

loading...

संसद हमले के बरसी पर पीएम मोदी समेत कई नेताओं ने शहीदों को नमन करते हुए श्रद्धांजली अर्पित की। इस हमले में आठ सुरक्षाकर्मी शहीद हुए थे और संसद के एक कर्मचारी की भी मौत हो गई थी। इस हमले के दौरान कई केंद्रीय मंत्री और सांसद समेत करीब 200 लोग संसद कैंपस में मौजूद थे।  parlaiment_6_1297893g

Next पर क्लिक कर आगे पढे >> अंदर सांसद और बाहर आतंकी  

1 of 2
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें