loading...

भारत गौरव वृंदावन का चंद्रोदय मंदिर होगा विश्व में सबसे ऊंचा

loading...
84 कोस में फैले ब्रज मंडल की आभा शोभनीय है, तो ब्रज के हृदय स्वरूप वृंदावन का सौंदर्य मनमोहक है। नंदनगरी वृंदावन का रज-रज धाम है। यहां राधावल्लव कुंजबिहारी श्री गोविंद बांकें बिहारी भगवान श्री कृष्ण स्वयं विराजमान हैं। यह पवित्र भूमि नटखट बाल गोपाल कान्हा की साक्षी है।कहते हैं कि मुरलीमनोहर के सुंदर दिव्य चरण जहां-जहां पड़े वह स्थल तीर्थ स्थल हो गया।

वृंदावन ब्रज-गोपियों की भूमि है। यहां के कण-कण से, पुष्प पौधों से प्रेम वर्षा होती है। यहां की गली-गली से राधा नाम की गूंज निकलती है। उसका श्रवण करना, इस प्रेम नाम का रसपान करना, भागवत कथा सुनने के बराबर है।

1 of 4
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें