loading...
shiva_650x425_111915075759
loading...
                                                         symbolic image

चोल वंशकालीन शिव-पार्वती की कांसे की प्रतिमा अमेरिका से भारत लाई जाएगी. कुख्यात भारतीय आर्ट डीलर सुभाष कपूर के इशारे पर इस मूर्ति को तमिलनाडु से चुराया गया था और तस्करी कर अमेरिका ले जाया गया था.

बाल स्टेट विश्वविद्यालय के डेविड आउजले म्यूजियम आफ आर्ट ने इस प्रतिमा को यूएस इमीग्रेशन एंड कस्टम्स एंफोर्समेंट (आईसीई) के होमलैंड सिक्योरिटी इन्वेस्टीगेशन (एचएसआई) को सौंपा है.

एचएसआई की सांस्कृतिक संपदा इकाई के स्पेशल एजेंट ने अपने ‘आपरेशन हिडन आइडल्स’ (छिपी प्रतिमाओं की खोज की कार्रवाई) में इस बात का पता लगाया कि इस प्रतिमा को दक्षिण भारत के एक मंदिर से लूटकर गैरकानूनी रूप से अमेरिका लाया गया था.

‘आपरेशन हिडन आइडल्स’ का केंद्रबिंदु कपूर की गतिविधियां हैं. कपूर अभी भारत में हिरासत में है. उस पर आरोप है कि उसने कई देशों से लाखों डालर की बेशकीमती प्राचीन चीजों की लूटखसोट की है.

शिव-पार्वती की कांसे की यह प्रतिमा न्यूयॉर्क ले जाई जाएगी, जहां इसका इस्तेमाल ‘आपरेशन हिडन आइडल्स’ में एक सबूत के तौर पर किया जाएगा. अंतत: इस प्रतिमा और एचएसआई द्वारा खोजी गई चोल वंशकालीन छह अन्य पवित्र प्रतिमाओं को वापस भारत भेजा जाएगा.

एचआईएस ने बताया कि 2004 में यह प्रतिमा कपूर की मैडिसन एवेन्य गैलरी,आर्ट आफ द पास्ट पहुंच गई थी. कपूर ने इसे बेचने के लिए रखा था और इसके उद्भव के बारे में गलत तथ्य पेश किए थे.

इनपुट…IANS.

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें