loading...

मोदी खरीदार नहीं निर्माता बनना चाहते हैं: अमेरिकी रक्षा मंत्री

loading...

वॉशिंगटन- अमेरिका के रक्षा मंत्री एश्टन कार्टर ने कहा है कि अमेरिका भारत के साथ ‘करीबी और मजबूत’ सैन्य संबंध विकसित करना चाहता है। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि उनकी प्रस्तावित भारत यात्रा दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंध में एक ‘नया मील का पत्थर’ साबित हो सकती है। जल्दी ही भारत यात्रा पर जाने के संकेत देते हुए कार्टर ने कहा, ‘हम भारत के साथ एक यथासंभव करीबी और मजबूत संबंध का इंतजार कर रहे हैं क्योंकि यह भू-राजनैतिक रूप से महत्वपूर्ण है।’

एक शीर्ष अमेरिकी थिंक टैंक सेंटर फॉर स्ट्रैटिजिक ऐंड इंटरनैशनल स्टडीज में उन्होंने कहा, ‘उनके साथ हम दो विशेष चीजें कर रहे हैं। पहला, हम पुनर्संतुलन की ओर जा रहे हैं… एक तरह से कहा जाए तो यह अमेरिका की ओर से ‘वेस्टवर्ड’ (पश्चिम की ओर) नीति पेश करने जैसा है। उनके पास ऐक्ट ईस्ट पहले से ही है, जो उनका पूर्व की दिशा में रणनीतिक रुख है।’

उन्होंने कहा ये उन दो हाथों की तरह है, जो एक-दूसरे को थाम रहे हैं और यह अच्छी बात है। उन्होंने कहा, ‘दूसरी हमारी रक्षा तकनीक और व्यापार पहल है। यह भारत के साथ काम करने का और उनकी इच्छा के मुताबिक काम करने का एक प्रयास है। वे अपने रक्षा उद्योग की तकनीकी क्षमताएं और रक्षा क्षमताएं सुधारना चाहते हैं। लेकिन वे सिर्फ एक खरीददार नहीं बनना चाहते। वे सह-विकासकर्ता और सह-निर्माता बनना चाहते हैं। वे इस तरह का संबंध चाहते हैं।’

1 of 2
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें