loading...

cxccv

एक पत्रकार द्वारा एक कश्मीरी बच्चे की तस्वीर को लेकर सोशल मीडिया पर बहस छिड़ गई है। तस्वीर में बच्चा सुरक्षाकर्मियों पर ग़ुलेल से निशाना साधते हुए नज़र आ रहा है। पत्रकार ने जहां तस्वीर के बारे में लिखा, ‘जवानों के साथ खेलता बच्चा’ वहीं सोशल मीडिया ने इसे गंभीरता से लेते हुए इसकी आलोचना शुरु कर दी।

Read Also > ग्राउंड रिपोर्ट- पत्थरबाजी के लिए कश्मीरी मुस्लिम युवाओं को दिए जाते हैं 500 रुपए
loading...

fgghjk

इस बहस में पूर्व IPS ऑफ़िसर संजीव भट्ट भी कूद गए जिन्होंने इस तस्वीर को अलग ही रुप में रेखांकित किया। उन्होंने ट्वीट कर आरोप लगाया कि कश्मीर में भयंकर गड़बड़ है जिसे दिल्ली ने कभी भी दुरुस्त करने की कोशिश नहीं की है। भट्ट के इस ट्वीट के बाद उन पर हमले शुरु हो गए।

Read Also > पाकिस्तानी कप्तान शाहिद अफरीदी, कश्मीरी समर्थकों पर फिर दिया विवादित बयान

cggtth

लोगों ने पत्रकार को आड़े हाथों लेते हुए उस पर आरोप लगाया कि उसे इस बात का एहसास नहीं है कि ये कितना ख़तरनाक है कि बच्चों पर भी अलगाववादियों का असर हो रहा है।

Read Also > दिल को तार-तार कर देने वाली कश्मीरी पंडितों की कहानी, इस को देखकर आप भी आँसू बहा देंगे

try

पत्रकार पर जहां तस्वीर के पीछे असल संदेश की अनदेखी करने के आरोप लगे वहीं भट्ट पर एक बार फिर मोदी सरकार की आलोचना करने के आरोप लग रहे हैं।

Read Also > उद्धव ठाकरे का पीएम मोदी पर निशाना, देश में फॉग चल रहा है

frtgtyu

Read Also > कश्मीर पर नेहरु के फैसले के कारण एक दिन पूरा देश चीख-चीख कर रोयेगा ; सरदार पटेल

gghgh

भट्ट इसके पहले भी 2002 में गुरात दंगों में मोदी के कथितरुप से शामिल होने के आरोप की वजह से सुर्ख़ियों में रह चुके हैं। दंगों में करीब 1000 लोग मारे गए थे। अंग्रेज़ी दैनिक हिंदू के अनुसार दंगो में मोदी की भूमिका को लेकर हलफ़नामा दायर करने के बाद भट्ट को गुजरात सरकार ने निलंबित कर दिया था। इस बार भट्ट पर बच्चे की तस्वीर को लेकर सरकार को निशाना बनाने का आरोप लगाया गया है।

Read Also > देश से प्यार करना इतना महंगा और ख़तरनाक क्यों होता जाता रहा है- Sudhir Chaudhary

अन्य लोगों ने भट्ट पर नफ़रत और राष्ट्र विरोधी भावनाएं फ़ैलाने का आरोप लगाया है।

 

 

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें