loading...

12301549_697922223641520_91280334941688197_n

loading...

प्रह्लादजी का पूर्व जन्म

पद्मपुराण, उत्तरखण्ड, अध्याय 174 (श्लोक 11 मोर संस्करण तथा वेंकटेश्वर एवं संस्करण भी) – के अनुसार ये वसुदेव नामके एक ब्राह्मण थे। इन्होंने विधिपूर्वक नृसिंह – चतुर्दशी – व्रतका पालन किया था ; अत: जन्मान्तर में परम श्रेष्ठ विष्णुभक्त हुए और भगवान् नृसिंग की कृपा के परम पात्र बने।

पद्मपुराण, भूमिखण्ड, अध्याय 5 के अनुसार ये द्वारकावासी शिवशर्मा पुत्र सोमशर्मा नामके ब्राह्मण थे। उनके पूर्व मृत चारों भाई तथा पिता परम सिद्ध थे। वे भगवान् विष्णु के अत्यन्त भक्त थे। हरिहर क्षेत्र में रात – दिन शुद्ध भाव से रहकर तपस्या करते हुए भगवान की आराधना कर रहे थे। वे सदा भगवान के ध्यान में लीन रहते और कभी भी सोते नहीं थे। वे सभी आशा-तृष्णाओं का त्याग कर योगासन पर बैठे रहते थे। संयोग की बात थी, उनका अन्तिम समय आ पहुंचा। इसी समय दैत्यों की एक टोली भी उनके तप में विघ्न डालने आ गयी। दैत्यों के भयानक शब्द कान में जाते ही उनकी मृत्यु हो गयी; अतः दैत्यों की आंशिक स्मृति से गीता 8|9 के सिद्धान्तानुसार उनका प्राण दैत्यराज हिरण्यकशिपु की पत्नी कयाधू में प्रविष्ट हुआ। पर वहां भी साधनानुसार गर्भकाल में ही नारदजी के दिव्य सात्त्विक, आध्यात्मिक उपदेश उन्हें अपने पूर्वजन्म के साधनादि कर्म भी स्मृत हो गये और जन्म के बाद उन्हें भगवान् नृसिंह के साक्षात् दर्शन एवं उनकी पूर्ण कृर्पा की प्राप्ति हुई (कहीं-कहीं इन्हें ही संह्लाद होना भी कहा है और पुनः दूसरे जन्म में प्रह्लाद होना लिखा है और इनकी माता का नाम ‘ कमला ’ बतलाया है) ।

संस्मारपूर्वकं सर्वं चरितं शिवशर्मणः।।
प्रागहं सोमशर्माख्यः प्रविष्टो दानवीं तनुम्।
प्रह्लादेति च वै नाम तस्याख्यानं महात्मनः।
बाल्यं भावं गतो विप्राः कृष्णमेव व्यचिन्तयत्।।
(पद्मपुराण भूमि० ५| १९-२०, ३१-३२)
‘कयाधू का यह पुत्र जातिस्मर था। उसे अपने पूर्वजन्म का सम्पूर्ण चरित्र स्मरण हो आया। उसने याद किया, वह पहले शिवशर्मा का सोमशर्मा नामक पुत्र था और देहत्याग के अनन्तर दानव – शरीर में प्रविष्ट हुआ। इस दानव शरीर में इस महानुभावका नाम प्रह्लाद के रुपमें विख्यात हुआ और यह (पूर्वजन्म के संस्कारों के कारण) बालकपन में ही श्रीकृष्ण का विशेष रुप से स्मरण करने लगा।’

sri_prahlada_maharaja_by_vishnu108-d4dcqkx

____________________  Kesar Devi 

 

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें