loading...

5

loading...

कुछ ही दिनों में दिवाली का त्योहार है, और दिवाली से याद आते हैं पटाखे| यूँ तो हम सिर्फ त्योहार के जश्न में पटाखे जलाते हैं, लेकिन क्या आपने कभी ये सोचा है कि हम हमारे इस थोड़े से मज़े के लिए पर्यावरण को कितना दूषित करते हैं? हम यहाँ आपको बता दें पूरे साल में पर्यावरण को सबसे अधिक नुकसान दीवाली के दिन फोड़े जाने वाले पटाखों से निकलने वाली गैस, आवाज और धूल से ही हाेता है।

पर्यावरण सरंक्षण विभाग के द्वारा हर साल दीवाली के पूर्व और दीवाली के दिन शाम को आबो हवा की जांच की जाती है। रिपोर्ट के अनुसार सामान्य दिनों में 24 घंटे में सल्फर गैस आैसतन 10.6 और नाइट्रोजन 9.31 माइक्रो मिली ग्राम प्रति घन मीटर हवा में मौजूद रहती है, जिसका मानव शरीर पर कोई खास प्रभाव नहीं पड़ता, जबकि दिवाली में 24 घंटे में इन गैसों की मात्रा पर्यावरण में दोगुने से अधिक हो जाती है।

ऐसे में हम आज आपके लिए जो वीडियो लाये हैं, उसमे इस लड़के ने पर्यावरण को प्रदूषण से बचा कर पटाखे फोड़ने का एक नया तरीका निकाला है| देखिये वो कैसे…

अगली स्लाइड में देखिये कैसे इस लड़के ने पटाखों की जगह पैसों को ही जलाकर….

 

Click on Next Button For Next Slide

1 of 2
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें