loading...

ये है जेएनयू में मां दुर्गा के अपमान और देशद्रोह के पीछे का सबसे बड़ा सियासी सच, इस साजिश का हिस्‍सा था पूरा मुद्दा?

loading...
दीपक अग्रवाल – संसद लगातार तीसरे सत्र में जंग का मैदान बनीं। तलवारें म्यान से बाहर रहीं। आक्रमण दर आक्रमण हुए। दुखद पक्ष यह रहा कि संसद के सामने, पूरी दुनिया के सामने वह भयानक तथ्य भी आया कि किस प्रकार जेएनयू ही नहीं देश के अनेक हिस्सों में हिंदू धर्म के खिलाफ साजिशें रची जा रही हैं, मां दुर्गा के लिए घृणित शब्दों का इस्तेमाल किया जा रहा है, और देशविरोधी लहर के पीछे एक पूरी की पूरी साजिश काम कर रही है, जो आजादी के बाद से ही सक्रिय है।

क्या इसे अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर नजरअंदाज कर देने से समस्या खत्म हो सकेगीनहीं, यह देश के एक वर्ग पर हमला नहीं है, यह वसुधैव कुटुम्बकम की आदि सोच पर आघात है, अनेकता में एकता की भावना को मार देने की साजिश है। देश में आपसी भाईचारे को मिटा देने, भाइयों को भाइयों से लड़ाकर समूचे देश के शरीर को समूल रूप से सड़ा देने का षड‍यंत्र है।

1 of 5
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें