loading...

धार्मिक पुराणों में सबसे विनाशक हथियारों में सुदर्शन चक्र का नाम भी लिया जाता है. श्रीकृष्ण के सुदर्शन चक्र से जुड़ी हुई कई कहानियां पुराणों में मिलती है. श्रीकृष्ण से पहले सुदर्शन चक्र श्री विष्णु के पास था. जैसा कि हम सभी जानते हैं श्रीकृष्ण, भगवान विष्णु के आठवें अवतार थे. भगवान विष्णु के पास से ये चक्र श्रीकृष्ण के पास पहुंचा था. सुदर्शन चक्र के बारे में ‘भागवतपुराण’ में वर्णित है किसी भी खोई वस्तु को खोज लाने में सुदर्शन चक्र सक्षम था. वहीं इसे सबसे अधिक विध्वंसक भी माना जाता था जिसे भगवान श्रीकृष्ण द्वारा क्रोधित होने पर दुर्जनों के संहार के लिए उपयोग किया जाता था.krishna with sudarshan chakra

loading...
लेकिन क्या आप जानते हैं कि सुदर्शन चक्र का निर्माण कैसे हुआ था. इसका निर्माण भगवान विष्णु ने नहीं बल्कि शिव ने किया था. इसके निर्माण के बाद शिव ने यह चक्र भगवान विष्णु को सौंप दिया था. इस संबंध में शिवपुराण के ‘कोटिरुद्रसंहिता’ में एक कथा का उल्लेख है. एक बार जब दैत्यों के अत्याचार बहुत बढ़ गए तब सभी देवता श्रीहरि विष्णु के पास आए. तब भगवान विष्णु ने कैलाश पर्वत पर जाकर भगवान शिव की विधिपूर्वक आराधना की.

Next पर क्लिक कर पूरी कथा जरूर पढ़े….. 

1 of 2
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें