loading...

सुप्रीम कोर्ट ने दिया एतिहासिक निर्णय! गाय को बताया देश की Economy का आधार!

loading...

क्रन्तिकारी राजीव भाई, अखिल भारतीय गौ सेवक संघ, अहिंसा आर्मी ट्रस्ट आदि जैसी संस्थाओ ने 1998 में सुप्रीम कोर्ट मे मुक़द्दमा किया गो हत्या के खिलाफ, क्योकि ऋषियों के इस पवित्र देश भारत में पशु हत्या चरम पर पहुंच रही थी।

भारत मे 3600 कत्लखाने ऐसे है थे जिनके पास गाय काटने का लाइसेन्स था। इसके इलावा 36000 कत्लखाने गैर कानूनी चल रहे थे। प्रति वर्ष ढाई करोड़ गायों का कत्ल किया जाता था। 1 से सवा करोड़ भैंसो का , और 2 से 3 करोड़ सुअरो का, बकरे -बकरियाँ , मुर्गे मुर्गियाँ आदि छोटे जानवरों की संख्या भी करोड़ो मे हैं गिनी नहीं जा सकती !

भारत के थोड़े दिन पहले चीफ जस्टिस रहे श्री RC लाहोटी ने अपनी अध्यक्षता मे 7 जजो की एक constitutional bench बनाई जिसमे 2004 से सितंबर 2005 तक मुकदमे की सुनवाई चली !

आगे पढ़े – गाय काटने वालो के समर्थन में दिए गए तर्क!

1 of 6
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें