loading...

जालंधर: जालंधर जिले के नूरमहल इलाके में स्थित दिव्य ज्योति जागृति संस्थान के संस्थापक आशुतोष महाराज को क्लिनिकली डेड घोषित किए जाने के बाद उन्हें 2 साल से संस्थान के एक कमरे में फ्रीजर में रखा गया है। हालांकि, उनके अनुयायियों का मानना है कि वह समाधि में हैं और एक दिन जरूर जागृत होकर लोगों के सामने आएंगे।ashutosh-maharaj-1454088316

संस्थान के संस्थापक आशुतोष महाराज की मौत के बारे में आज के ही दिन 2 साल पहले चर्चा हुई थी। इसके बाद नूरमहल स्थित आश्रम में श्रद्धालुओं और अनुयायिओं के आने जाने का तातां लग गया था। श्रद्धालुओं का मानना है कि महाराज समाधि में हैं और वह एक दिन आकर अपने भक्तों को जरूर दर्शन देंगे। इससे पहले यह मामला पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय में भी पहुंच चुका है। अदालत की एकल पीठ ने पंजाब सरकार को आशुतोष महाराज का अंतिम संस्कार करने का आदेश दिया था। बाद में हालांकि, अदालत ने एकल पीठ के आदेश पर रोक लगा दी।

1 of 2
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

शेयर करें