loading...
पुतिन के 'ब्रह्मास्त्र' का सफल रहा परीक्षण, तो क्या ध्वस्त होगा US का GPS सिस्टम?
loading...
file foto

धरती से 100 किलोमीटर ऊपर अंतरिक्ष में अगला कुरुक्षेत्र तैयार हो रहा है। कुरुक्षेत्र यानि मैदान-ए-जंग – यानि वो इलाका जहां जीत और हार का फैसला होगा। रूस ने ऐसी मिसाइल का सफल परीक्षण किया है जो अंतरिक्ष में जाकर अमेरिकी सैटेलाइट को भस्म कर सकती है, उधर चीन भी ऐसी ही मिसाइल बना रहा है, जिससे भारतीय उपग्रहों को सीधा खतरा होगा। ये स्पेस वॉर की तैयारी है। अगला महायुद्ध जमीन, या पानी में नहीं बल्कि अंतरिक्ष में छिड़ सकता है।

रूस ने मास्को से 500 मील दूर उत्तरी रूस की एक जगह प्लेसेत्स से NUDOL नाम की एक मिसाइल का परीक्षण किया। बताया जा रहा है कि रूस की इस एंटी सैटेलाइट मिसाइल का परीक्षण कामयाब रहा है। NUDOL नाम की ये मिसाइल अमेरिका का संचार तंत्र, अमेरिका का जासूसी तंत्र और नैविगेशन सिस्टम को खत्म कर देगा यानी अमेरिकी लड़ाकू जहाज आसमान में रास्ता भटक जाएंगे, समुद्र में घूमते अमेरिकी जंगी बेड़ा अंधा हो जाएगा, मोबाइल पर कोई संदेशा नहीं आ सकेगा क्योंकि अमेरिका का जीपीएस यानी सैटेलाइट की मदद से चलने वाला ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम फेल हो जाएगा।

1 of 4
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें