ऐसा बन जायेगा कि पहचानने में नहीं आयेगा नई दिल्ली रेलवे स्टेशन !

नई दिल्ली: दक्षिण कोरिया ने देश के सबसे भीड़भाड़ वाले रेलवे स्टेशनों में से एक नई दिल्ली रेलवे स्टेशन का कायाकल्प कर उसे विश्व स्तरीय बनाने के लिए हाथ आगे बढ़ाया है। रेलवे की इस महत्वाकांक्षी योजना के तहत स्टेशन को दस हजार करोड़ रुपये की अनुमानित लागत के साथ चमकाया जाएगा। हवाई अड्डों की तर्ज पर अलग-अलग अराइवल और डिपार्चर वाला नई दिल्ली स्टेशन, पहला रेलवे स्टेशन होगा। स्टेशन की मल्टी-स्टोरी बिल्डिंग में डिपार्चर्स और अराइवल के लिए अलग सेक्शन होंगे। अजमेरी गेट की तरफ आसमान छूते 3 टावर कमर्शल इस्तेमाल के लिए होंगे। स्टेशन पर ट्रेन का इंतजार कर रहे लोगों के लिए स्टेशन के फर्स्ट फ्लोर पर काफी स्पेस होगा। ट्रेन से उतरने वाले लोग ग्राउंड फ्लोर से बाहर आ सकेंगे। सेकंड फ्लोर पर ऑफिस होंगे। इंडीजीनियस स्टेट ऑफ आर्ट्स वाला नई दिल्ली स्टेशन भारत में ही नहीं दुनिया में अपनी तरह का पहला स्टेशन होगा। नई दिल्ली रेलवे स्टेशन की कायाकल्प में साउथ कोरियन रेलवे का विशेष योगदान रहेगा। नई दिल्ली रेलवे स्टेशन की कायाकल्प पर लगभग 10 हजार करोड़ रुपये खर्च किये जायेंगे।

यात्रियों को सर्वश्रेष्ठ सुविधाएं दी जाएगी और उनके लिए खरीददारी की सुविधा भी होगी। नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर एक दिन में पांच लाख से ज्यादा यात्री आते हैं। स्टेशन पर एक दिन में 361 रेलगाड़ियां आती हैं। योजना के तहत तीन मंजिला स्टेशन इमारत में प्रस्थान और आगमन के अलग-अलग सेक्शन होंगे। स्टेशन के अजमेरी गेट की ओर व्यावसायिक इस्तेमाल के लिए तीन गगनचुंबी इमारत होंगी।

रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि दक्षिण कोरिया ने नई दिल्ली स्टेशन के पुनर्विकास के लिए उत्सुकता दिखायी है। रेलवे ने स्टेशन में और उसके आसपास खाली पड़ी भूमि के व्यावसायिक इस्तेमाल से लाभ कमाने की संभावनाओं को तलाशा और दक्षिण कोरिया रेलवे को संभावित लेआउट के साथ विस्तृत योजना सौंपी।

योजना के तहत स्टेशन पर डिजिटल साइनेज, स्वचालित सीढ़ियां और लिफ्ट, ऑटोमेटिक सेल्फ टिकट काउंटर, एग्जिक्यूटिव लाउंज और यात्रियों के लिए कई अन्य सुविधाएं होंगी। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने निजी कंपनियों की मदद से 400 स्टेशनों के पुनर्विकास के जरिये राजस्व एकत्रित करने पर जोर दिया है और नई दिल्ली स्टेशन का कायाकल्प इसी का हिस्सा है। रेलवे ने हाल ही में 23 जंक्शनों के लिए महत्वाकांक्षी स्टेशन पुनर्विकास परियोजना के पहले चरण का शुभारंभ किया।