loading...

बेंगलुरु: नैशनल हेरल्ड केस में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी को जमानत मिलने के बाद से बेंगलुरु से 60 किलोमीटर दूर रामनगरम के 35 साल के बिजनसमैन इंदुवालू सुरेश चर्चां में आ गए हैं। लोग उनकी ‘भक्तिभावना’ के लिए उन्हें ‘कांग्रेस का एकलव्य’ कहने लगे हैं। सुरेश ने कांग्रेस के दोनों नेताओं को बेल मिलने के बाद तिरुपति मंदिर में अपने बाएं हाथ की छोटी उंगली काट कर चढ़ावे में चढ़ा दी। यहां बता दें कि महाकाव्य महाभारत में एकलव्य ने अपने गुरु द्रोणाचार्य को गुरुदक्षिणा देने के लिए अपने दाएं हाथ का अंगूठा काट दिया था।

msid-50513442,width-300,resizemode-4,suresh
loading...
सुरेश 25 दिसंबर को तिरुपति गए और अपने बाएं हाथ की छोटी उंगली को काट कर वहां के दानपात्र में डाल दिया। उन्होंने कांग्रेस के इन नेताओं को जमानत मिलने के बाद भगवान का आभार जताने के लिए ऐसा किया।

सुरेश ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया, ‘सोनिया और राहुल को कोर्ट में बुलाए जाने के बाद पूरी कांग्रेस पार्टी चिंतित थी। मैंने प्रण किया था कि अगर मेरे नेताओं को जमानत मिल जाएगी तो मैं अपनी उंगली भगवान को चढ़ावे के तौर पर सौंप दूंगा।’

कर्नाटक के आवास मंत्री एमएच अंबरीश ने शनिवार को सुरेश को बेंगलुरु में अपने आवास पर मिलने के लिए बुलाया। सुरेश के इस ‘चढ़ावे’ के बारे में जान कर वह हक्के-बक्के रह गए थे। मंत्री ने उनसे कहा, ‘आप कलयुग के एकलव्य हैं, लेकिन हम ऐसे दर्दनाक समर्पण नहीं चाहते।’

सुरेश ने बताया कि उन्होंने अपने इस चढ़ावे के बारे में परिवार वालों को नहीं बताया था और एक दोस्त के साथ तिरुपति गए थे। उन्होंने बताया, ‘मैंने अपनी कटी हुई उंगली को हज़ार रुपये के नोट में लपेटा और सोनिया, राहुल को जमानत ‘दिलाने’ पर आभार जताने के लिए भगवान को लिखी गई एक चिट्ठी के साथ उसे दानपात्र में डाल दिया। उंगली काटते वक्त मुझे दर्द का अहसास नहीं हुआ। उसके बाद मैं मंदिर के पास एक हॉस्पिटल में गया और डॉक्टर को बताया कि अपने कार का एसी ठीक करने के दौरान मेरी उंगली कट गई।’

दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने पिछले साल दिसंबर में नैशनल हेरल्ड केस में वित्तीय गड़बड़ियों के आरोपों पर सोनिया गांधी और राहुल गांधी समेत सभी आरोपियों को जमानत दे दी है। कोर्ट ने मामले की अगली सुनवाई 20 फरवरी के लिए तय की है। यह मामला बीजेपी नेता सुब्रमण्यन स्वामी की निजी आपराधिक शिकायत पर आधारित है, जिसमें इन नेताओं पर धोखधड़ी, साजिश और आपराधिक विश्वाघात का आरोप लगाए गए हैं।

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें