loading...

moditeem

loading...

नई दिल्ली। सुरक्षाबलों के साथ हुई मुठभेड़ में आतंकी बुरहान की मौत के बाद आज सुबह घाटी में 500 कश्‍मीरी नागरिकों ने सेना के एयरबेस पर हमला कर दिया। ये लोग कश्‍मीर में जिहाद के नाम पर घाटी में जंग का ऐलान कर चुके हैं। बीते दिन भी कश्‍मीरी मस्जिदों में देश विरोधी नारे लगाए गए थे। अब मोदी सरकार ने इसके खिलाफ सख्त कदम उठाए हैं।

कश्‍मीर में जिहाद के नाम पर गई कई जाने

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने इस हमले के बाद जम्‍मू कश्‍मीर की मुख्‍यमंत्री महबूबा मुफ्ती से फोन पर बात की और उन्‍हें पूरी तरह से मदद देने का भरोसा भी जताया। मामले को ज्‍यादा गंभीर होता देख गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री के साथ विपक्ष के नेता उमर अब्‍दुल्‍ला से भी फोन पर बातचीत की है और उनसे कहा कि इस मामले पर राजनीति न की जाए। वहीं दूसरी तरफ राजनाथ ने कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी से भी बात की। उन्‍होंने सोनिया से इस मामले पर राजनीतिक द्वैष को किनारे करने को कहा और केंद्र सरकार के साथ खड़े रहने का भी आग्रह किया। खबरों के मुताबिक सोनिया ने भी राजनाथ को मदद का आश्‍वासन दिया है।

वहीं इस मामले पर केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने अलगाववादियों पर निशाना साधा है। नायडू ने कहा कि उन्‍हें यह बात जानकर हैरानी होती है कि कुछ लोग आतंकियों को सपोर्ट कर रहे हैं। वह हिजबुल मुजाहिद्दीन का कमांडर था। कैसे कोई भारतीय उसके साथ सहानुभूति रख सकता है? वहीं इससे पहले बुरहान की मौत के बाद कश्‍मीर में भड़की हिंसा में 23 लोग मारे जा चुके हैं और करीब 200 से ज्‍यादा लोग घायल हुए हैं। प्रदर्शनकारियों पर पुलिस के थानों से हथियार लूटने और सरकारी बिल्डिंग्स को जलाने का भी आरोप है। कुछ प्रदर्शनकारियों ने मिलकर एक पुलिस जीप को नदी में फेंक दिया था। इसमें एक पुलिसवाले की मौत हो गई थी।

 

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें