loading...
kureel
loading...
Manoj Kureel

ज़रा सा क़तरा कहीं आज गर उभरता है
समन्दरों ही के लहजे में बात करता है
शराफ़तों की यहाँ कोई अहमियत ही नहीं
किसी का कुछ न बिगाड़ो तो कौन डरता है
‪#‎ArrestZakirNaik‬ ‪#‎BanZakirNaik‬

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें