loading...

screen-2

loading...

दिल्ली- बात बस पांच साल पुरानी है। वर्ष 2011 के एएमयू छात्र संघ चुनाव में आमिर कुतुब सचिव बने थे। उसी साल उन्होंने मैकेनिकल इंजीनियरिंग की डिग्री हांसिल की थी। आंखों में कई ख्वाब थे, पर जब हकीकत सामने आई तो हाल बुरा हो गया।

नौकरी की तलाश में दिल्ली से आस्ट्रेलिया पहुंच गए। लेकिन वहां भी खाने के लाले पड़ने लगे। आस्ट्रेलिया के मेलबर्न में रहते जब पैसे कम पड़े  तो उन्होंने हर सुबह अखबार बांटने का काम शुरू किया। बदले में ठीक-ठाक कमाई होने लगी।

1 of 3
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें