loading...

स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती का कहना है कि महाराष्ट्र के शनि शिंगणापुर में महिलाओं के दर्शन की अनुमति का आंदोलन बहकावे से प्रेरित है। स्वरूपानंद सरस्वती ज्योतिष और द्वारिका शारदापीठ के पीठाधीश हैं। वह पांच दिनों के लिए वाराणसी आए हैं और इस दौरान मीडिया से बातचीत में उन्होंने यह बात कही।allahabad

उन्होंने कहा, ‘शनि कोई भगवान नहीं बल्कि एक अनिष्टकारी ग्रह है। शनि मनाने के देवता नहीं बल्कि भगाने का ग्रह है। शनि पूजन से महिलाओं को कोई लाभ नहीं होने वाला है। महिलाओं को शनि दर्शन की जिद का आंदोलन छोड़कर धार्मिक संस्कारों से जुड़ाव का कदम उठाना चाहिए।’

Next पर क्लिक कर पूरी खबर पढ़े…. 

1 of 2
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

शेयर करें