loading...

आज की इस भाग-दौड़ भरी जिंदगी में सिर दर्द एक सामान्य बात है। हर उम्र के लोग अकसर इसकी शिकायत करते हैं।हर किसीको कभी ना कभी सरदर्द का अनुभव अवश्य ही होता है। लेकिन सरदर्द के कारण अलग अलग हो सकते है| सरदर्द का मुख्य कारण सर की धमनियॉं और मांस पेशी में तनाव पैदा होना है।लेकिन कभी कभी सरदर्द मस्तिष्क की बिमारी के कारण या कभी तनाव और अन्य कारणों से भी हो सकता है ।

*रात में कम-से-कम 6-8 घंटे की नींद जरूर लें और सोने – जागने का शेड्यूल एक जैसा रखने की ही कोशिश करें।

*सिर दर्द में आप लौंग पाउडर और नमक का पेस्ट बना कर इसे दूध में मिलाकर पीएं, तुरंत आराम मिलेगा।

*पिपरमिंट सिरदर्द के लिए बेहद फायदेमंद है।इसलिए अगर आपको सिर दर्द की शिकायत है, तो आप इसे चाय में मिलाकर पी सकते हैं। इससे आपको तुरंत आराम मिलेगा।

*सिर के जिस हिस्से में दर्द हो, उसके दूसरे हिस्से की तरफ नाक के छिद्र में एक बूंद शहद डालने से सर का दर्द तुरन्त दूर हो जाता है।

*कई बार पेट में गैस बनने से भी सिर दर्द होता है। इसके लिए एक ग्लास में गर्म पानी और नींबू का रस मिला कर पीएं। इससे आपको सिर दर्द से जल्दी राहत मिलती है ।

*लौंग को हल्की गर्म करके उसे पीसकर सिर पर लेप करने से सर दर्द मिट जाता है ।

*काम के बोझ से बचने के लिए लोग काफी ज्यादा चाय , कॉफी आदि पीते रहते हैं, जिनमें कैफीन होता है। ज्यादा कैफीन लेने से सिरदर्द की सम्भावना बढ़ती है।

*बादाम के तेल में केसर मिलाकर दिन में तीन चार बार सूंघने से सर दर्द में आराम मिलता है।

*सिर दर्द से आराम पाने के लिए गाय का गर्म दूध पीएं। साथ ही अपने आहार में देशी घी को भी शामिल करें।

*सिरदर्द के लिए नौशादर और खाने वाला चूना बराबर मात्रा में मिलाकर एक शीशी में भरकर उसे अच्छी तरह मिला लें। सिरदर्द होने पर इसे सूंघे ।

*अगर आपका सिर दर्द जुखाम की वजह से है तो आप धनिया, चीनी को पानी में घोल कर पी कर सिर दर्द से निजात पा सकते हैं।

*सिर दर्द से छुटाकारा पाने के लिए दालचीनी को पीस कर उसका पाउडर बना लें। अब इसे पानी में मिला कर पेस्ट तैयार करें।इसे सिर पर लगाने से आपको तुरंत आराम मिलेगा।

*सरसों के तेल को कटोरी में डालकर 1 से 2 मिनट तक दिन में तीन चार बार सूंघें।

  • एक मुनक्के के बीज निकालकर उसमें एक साबुत राई रख दें। 2-3 दिन लगातार सूर्योदय से पहले कुल्ला करके पानी से मुनक्का निगल लें,सर दर्द में तुरंत लाभ मिलेगा ।

*अगर आप स्थाई सिर दर्द की समस्या से जूझ रहे हैं तो कुर्सी पर बैठ कर अपने पांव गर्म पानी में डुबो कर रखें। सोने से पहले कम से कम 15 मिनट तक ऐसा करें।इसे नियमपूर्वक सप्ताह में कम से कम दो से तीन बार तक करें।

*अगर आप गर्मी के समय में सिर दर्द से जूझ रहे हैं तो नारियल के तेल से 10-15 मिनट मसाज करने से भी आपको सिर दर्द से राहत मिलेगा। यह सिर को ठंडक पहुंचाता है साथ ही दर्द भी कम करता है।

*सुबह सुबह सेब पर नमक लगा कर खाएं। इसके बाद गर्म दूध पीएं। ऐसा लगातार 10 दिन तक करने पर आपकी सिर दर्द की समस्या खत्म हो जाएगी ।

*चाय बना कर उसमें थोडी सी अदरख के साथ लौंग और इलायची भी मिला दें। इससे आपका सिरदर्द तुरंत गायब हो जायेगा ।

*लहसुन के कुछ टुकड़े लेंकर उसे निचोड़ का रस निकालकर उसे पी जाएँ । लहसुन एक पेनकीलर के रूप में काम करता है, जिससे सिर दर्द में तुरंत राहत मिलती है।

*लौकी का गूदा सिर पर लेप करने से भी सिरदर्द में तुरंत आराम मिलता है।

*15 मिनट तक बादाम के तेल से सिर का मसाज करने पर भी सिर दर्द से राहत मिलती है।

*मांसपेशियों के तनाव को कम करने के लिए कंधे, गर्दन और कनपटी के हिस्से में मसाज करना अच्छा रहता है। सप्ताह में चार से पांच बार व्यायाम अवश्य ही करें।

*पान अपने दर्दनाशक गुणों के लिए जाना जाता है। सर दर्द होने पर ताजा हरा पान चबा चबा कर खाइये, जल्दी ही सर का दर्द गायब हो जायेगा ।

*खीरा काटकर सूँघने एवं सिर पर रगडऩे से सिरदर्द में तुरंत आराम मिलता है।

सर्द दर्द दूर करने के लिए प्राणायाम : 

नाक के दो हिस्से हैं दायाँ स्वर और बायां स्वर जिससे हम सांस लेते और छोड़ते हैं , पर यह बिलकुल अलग – अलग असर डालते हैं और आप फर्क महसूस कर सकते हैं | दाहिना नासिका छिद्र “सूर्य” और बायां नासिका छिद्र “चन्द्र” के लक्षण को दर्शाता है या प्रतिनिधित्व करता है | सरदर्द के दौरान, दाहिने नासिका छिद्र को बंद करें और बाएं से सांस लें | और बस ! पांच मिनट में आपका सरदर्द “गायब” है ना आसान ?? …. अगर आप थकान महसूस कर रहे हैं तो बस इसका उल्टा करें.. यानि बायीं नासिका छिद्र को बंद करें और दायें से सांस लें ,और बस ! थोड़ी ही देर में “तरोताजा” महसूस करें | दाहिना नासिका छिद्र “गर्म प्रकृति” रखता है और बायां “ठंडी प्रकृति”,,, अधिकांश महिलाएं बाएं और पुरुष दाहिने नासिका छिद्र से सांस लेते हैं और तदनरूप क्रमशः ठन्डे और गर्म प्रकृति के होते हैं सूर्य और चन्द्रमा की तरह | प्रातः काल में उठते समय अगर आप बायीं नासिका छिद्र से सांस लेने में बेहतर महसूस कर रहे हैं तो आपको थकान जैसा महसूस होगा ,तो बस बायीं नासिका छिद्र को बंद करें, दायीं से सांस लेने का प्रयास करें और तरोताजा हो जाएँ | अगर आप प्रायः सरदर्द से परेशान रहते हैं तो इसे आजमायें ,दाहिने को बंद कर बायीं नासिका छिद्र से सांस लें.. बस इसे नियमित रूप से एक महिना करें और स्वास्थ्य लाभ लें |

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें