loading...
5650
loading...
Source: Art

भारतीय स्वतंत्रता की जब भी बात की जाती है, तो सैनिक विद्रोह का नाम बड़े गर्व से लिया जाता है। वर्ष 1857 की क्रांति को हिन्दुस्तान की पहली क्रान्ति कहा गया है। सच की बात करें तो ये सच नहीं है. इससे पहले भी एक लड़ाई हुई थी, जो सिर्फ़ अंग्रेजों के खिलाफ़ ही नहीं, वरन समाज में शोषण करने वाले सभी लोगों के ख़िलाफ़ थी। सामाजिक जनचेतना के लिहाज से यह युद्ध काफ़ी महत्वपूर्ण था। इतिहास में इसे ‘संथाल हूल‘ या ‘संथाल विद्रोह’ के नाम से जाना जाता है। इसका नेतृत्व सिद्धू और कान्हू नाम के दो आदिवासी भाइयों ने 30 जून 1855 से प्रारंभ किया था। इस घटना की याद में प्रतिवर्ष 30 जून को ‘हूल क्रांति दिवस’ मनाया जाता है। आइए, आपको इसकी विशेषता के बारे में बताते हैं।

आगे पूरा आर्टिकल पढ़ने से पहले इन मुख्य बिंदुओं पर ज़रूर ग़ौर करें 

1 of 4
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...