दोनों देशों के बीच अच्छे रिश्ते होते हुए भी ऐसा क्या हुआ जो भारत को रूस के सामने रखनी पड़ी ये शर्त

मोदी जी के नेतृत्व में भारत अब मजबूती के साथ दुनिया के सामने अपनी बात रख रहा है। अब देश इतना मजबूत हो चुका है कि दुनिया का कोई भी देश अब भारत को नज़रअंदाज़ नहीं कर सकता। पीएम मोदी ने अपनी दूरदर्शिता से जो कदम अपने कार्यकाल के शुरुवाती दिनों में उठाये थे उनका फायदा अब भारत के लोगों को मिल रहा है और भारत का मान बढ़ रहा है। 

भारत हमेशा से रूस का अच्छा मित्र रहा है और दोनों देश एक दूसरे के हितों की हमेशा चिंता करते हैं लेकिन रूस ने पिछली बार जब भारत के साथ एक सौदा किया था तो उस सौदे में किये गए वादे पर रूस ने पूरी तरह से अमल नहीं किया जिसकी वजह से भारत को नुकसान हुआ था. इसीलिए मोदी सरकार के प्रबल नेतृत्व में भारत ने अबकी बार रूस के सामने शर्त रख दी है.

अगले पेज पर जानें, क्या है वो सौदा जिसको लेकर अब भारत रूस के सामने रख रहा है शर्त