loading...

जयपुर: राजस्थान पथ परिवहन निगम के अध्यक्ष भारतीय प्रशासनिक सेवा के वरिष्ठ अधिकारी उमराव सालोदिया ने दलित होने के कारण अपने साथ भेदभाव का आरोप लगाते हुए गुरुवार को मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को अपनी स्वेच्छिक सेवानिवृत्ति का आवेदन दे दिया। हालांकि प्रदेश सरकार ने उनके आरोपों को सिरे से खारिज किया है। rajasthanसालोदिया ने एक संवाददाता सम्मेलन में इस आशय की घोषणा की। उन्होंने कहा कि मेरी एक दलित अधिकारी होने के कारण अनदेखी की जा रही है।

मुख्‍ख्‍यमंत्री को लिखी चिट्ठी :  उन्होंने कहा, ‘मैंने आज मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को अपनी स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति का आवेदन भेज दिया है। केन्द्रीय कर्मचारियों के सेवानियम के तहत मैंने तीन महीने के नोटिस के तहत यह आवेदन भेज कर 31 मार्च 2016 को सेवानिवृत्ति का अनुरोध किया है। भारत सरकार को भी आज मैं यह पत्र भेज रहा हूं।’ 1978 बैच के भारतीय प्रशासनिक सेवा के वरिष्ठ अधिकारी संभवत अपने से जूनियर अधिकारियों को मुख्य सचिव पद पर पदस्थापित करने से दुखी हैं।

700 हिंदूओं ने किया धर्म परिवर्तन, बने ईसाई और मच गया बवाल!

loading...

Next पर क्लिक कर पढे पूरी खबर….. 

1 of 2
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें