loading...

kali kaal

loading...

हिन्दू शास्त्रों के अनुसार अनिश्चित भविष्य के बीच एक निश्‍चित या तय भविष्य की रेखा चलती रहती है अर्थात भविष्य में कुछ घटनाओं का घटना तय है तो कुछ के बारे में कुछ भी नहीं कहा जाता सकता। भविष्य का निर्माण एक व्यक्ति, समूह या संगठन पर ही निर्भर नहीं है बल्कि इसमें प्राकृतिक तत्वों का भी योगदान रहता है। संभावनाएं अनंत हैं, लेकिन कुछ संभावनाओं के बारे में पुख्ता तौर पर कहा जा सकता है।

आप नीचे खड़े हैं तो यह नहीं देख पा रहे हैं कि 10 मिनट बाद आपके क्षेत्र में बारिश होने वाली है, लेकिन यदि आप किसी ऊंचे स्थान पर खड़े हैं तो आप दूर कहीं हो रही बारिश को देखकर नीचे खड़े लोगों से कह सकते हैं कि 10 मिनट बाद बारिश होने वाली है, फिर वे चाहे आपकी बातों पर विश्‍वास करें या न करें। 10 मिनट बाद ही उन्हें इसकी सचाई का पता चलेगा। इसी तरह भविष्य देखने वाले कहीं ओर खड़े हैं और हम सब नीचे… संभावनाएं अनंत हैं और उन्हीं अनंत संभावनाओं में से किसी एक संभावना को पकड़कर कोई भविष्यवाणी करता है। यहां हम इस बार लाए हैं हिन्दू पुराणों में वर्णित कुछ ऐसी भविष्यवाणियां जिन्हें जानकर आप आश्‍चर्य में पड़ जाएंगे।

अगले पन्ने पर पहली भविष्यवाणी… 

1 of 12
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...