loading...

iranism

loading...

नई दिल्लीः कैबिनेट में हुए फेरबदल के बाद स्मृति ईरानी को एचआरडी मिनिस्ट्री से हटाकर कपड़ा मंत्रालय दे दिया गया। सूत्रों का कहना है कि स्मृति अपनी पसंद के शख्स को सीबीएसई का चीफ बनवाना चाहती थीं, जिसे नरेंद्र मोदी ने रिजेक्ट कर दिया। ये दूसरी बार है जब स्मृति की पसंद के अफसर को सीबीएसई चीफ के लिए रिजेक्ट किया गया।

इस आधार पर खारिज हुअा प्रपोजल
अगस्त, 2015 में भी ACC ने सतबीर बेदी के नाम को खारिज किया था। ACC ने सर्च-कम-सिलेक्शन कमेटी के प्रपोजल को इस आधार पर खारिज किया था कि सतबीर 3 साल तक एजुकेशन एडमिनिस्ट्रेशन संभालने का एक्सपीरियंस नहीं रखतीं। सीबीएसई चीफ की पोस्ट दिसंबर 2014 से खाली है। इस पोस्ट पर ज्वाइंट सेक्रेटरी लेवल के अफसर को अप्वॉइंट किया जाना है। इसके लिए जरूरी होगा कि अफसर का एजुकेशनल एडमिनिस्ट्रेशन में कम से कम 3 साल का एक्सपीरियंस हो।

कौन था स्मृति की पसंद
कहा जा रहा है कि सिविल सर्विस बोर्ड ने इस पोस्ट के लिए नाम तय कर कैबिनेट कमेटी को भेज दिए है। फिलहाल अगस्त 2015 से एचआरडी में ज्वाइंट सेक्रेटरी वीएसके सेशु कुमार के पास सीबीएसई चेयरमैन का चार्ज है। बताया जा रहा है कि स्मृति ने डॉ. सर्वेंद्र विक्रम बहादुर सिंह को सीबीएसई चीफ बनाने का सुझाव दिया था, लेकिन मोदी ने सर्वेंद्र सिंह को सीबीएसई चीफ बनाने का प्रपोजल खारिज कर दिया। डिपार्टमेंट ऑफ पर्सनल एंड ट्रेनिंग (DoPT) द्वारा एचआरडी मिनिस्ट्री को लिखे पत्र के मुताबिक, ACC का कहना है कि सीबीएसई चीफ की पोस्ट को सेंट्रल स्टाफिंग स्कीम (CSS) के तहत ही भरा जाएगा।

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें