loading...

1290793266-render-528x360

loading...

प्लाट के लिए जमीन का चयन करने के लिए वास्तु टिप्स :

मकान निर्माण के लिए वास्तु अनुसार शुभ भूमि का चयन करते समय निम्नलिखित बाते मुख्तया ध्यान रखने वाली हें :

  • प्लाट के चारो कॉर्नर समकोण पर हो अर्थात प्लाट का आकार आयताकार यावर्गाकार हो. यदि प्लाट उत्तर-पूर्व दिशा में बढ़ा हुआ हो तो भी ठीक है पर दक्षिण-पशिम और दक्षिण-पूर्व में बढ़ा हुआ भूखंड उपयुक्त नहीं होता हें.
  • दो बड़े प्लाट की बीच स्थित एक अपेक्षाकृत छोटा प्लाट आर्थिक समृद्धि के लिए उपयुक्त नहीं होता हें.
  • प्लाट के पूर्व, उत्तर एवं उत्तर पूर्व दिशा में कोई बड़ा या भारी निर्माण नहीं होना चाहिए.
  • यदि प्लाट के उतर-पूर्व मे कोई पानी का स्थान हें तो यह शुभ होगा पर दक्षिण-पशिम दिशा मे पानी का स्थान कदापि नहीं होना चाहिए.
  • प्लाट समतल होना चाहिए, यही प्लाट समतल नहीं हे पर ढलान उत्तर या पूर्व दिशा की और होना चाहिए. दक्षिण या पशिम दिशा की और का ढलान नहीं होना चाहिए.
  • प्लाट टी (T) पॉइंट पर नहीं होना चाहिए यानि प्लाट के किसी भी दिवार पर पर आकार कोई रास्ता बंद नहीं हो जाना चाहिए.
  • प्लाट मंदिर, मकबरा, शमशान के सामने नहीं होना चाहिए एवं उस पर मंदिर अथवा पीपल के पेड की छाया पड़नी चाहिए.

प्लाट की दिशाये:

  • पूर्वमुखी प्लाट (East Facing Plot) : पूर्व को देखता हुआ प्लाट शिक्षा, धर्म एवं अध्यात्म के कार्य मे लगे व्यक्तियो के लिए उपयुक्त होता हें.
  • पश्चिम मुखी प्लाट (West Facing Plot) : पश्चिम को देखता हुआ प्लाट समाज को सर्विस प्रदान करने वालों लोगो जैसे की डाक्टर के लिए उपयुक्त होता हें.
  • उत्तर मुखी प्लाट (North Facing Plot) : उत्तर को देखता हुआ प्लाट, सरकारी सेवा,पुलिस, सेना मे कम करने वालो के लिए उत्तम होता हें. यह अधिकारों में वृद्धि के लिए अच्छा हें.
  • दक्षिण मुखी (South Facing Plot) : दक्षिण को देखता हुआ प्लाट व्यापारियों एवं व्यापारिक संस्थानों में कार्य करने के लिए उपयुक्त होता हें.
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें