loading...

पंजाब के पठानकोट में हुए आतंकी हमला लगातार पांच दिनों तक जारी रहा। इस ऑपरेशन में 7 जवान शहीद हो गए जबकि सेना के जवानों ने जबाबी कार्रवाई में जवानों ने 6 आतंकियों को भी मौत के घाट उतार दिया। इस हमले के पीछे के असली गुनाहगार कौन है, इसका पता तो एनआईए जांच के बाद ही चल पाएगा लेकिन एसपी की किडनेपिंग इसमें प्रमुख कड़ी बनकर उभरी है।

एक तरफ एसपी से एनआईए द्वारा पूछताछ जारी है, तो दूसरी तरफ हर बार की तरह इस बार भी आतंकी हमलों पर सियायत शुरू हो चुकी है। आरोप-प्रत्यारोप जारी है, लेकिन इन सबके बीच अभी भी कई सवाल अनसुलझे हैं। पाकिस्‍तान को हम सबूत सौंप चुके हैं और हमेशा की तरह सबूत थमाते ही वह उसे अपर्याप्‍त बता रहा है और यहां तक की मानने से इंकार कर रहा है। लेकिन सबसे अहम सवाल इस पूरे आतंकी घटनाक्रम से यह निकलकर सामने आ रहा है कि आखिर 5 दिन से जारी इस ऑपरेशन में यदि भारतीय सुरक्षा तंत्र की नाकामी शामिल है तो वह आखिर ऐसी कौन सी चूक है? कौन सी नाकामी है? आइए जानने का प्रयास करते हैं कि आखिर कहां हुई चूक।

पंजाब पुलिस की लापरवाही-  इस पूरे घटनाक्रम में पंजाब पुलिस की लापरवाही खुलकर सामने आ रही है कि किस तरह से एक संवेदनशील व राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ी घटना को महज छोटी वारदात मानकर चुपी साधे रखी। इस पूरे घटना की शुरुआत एसपी सलविंदर सिंह की गाड़ी छीनने से हुई और ऐसे में सवाल यह उठता है कि आखिर किसी नाके पर गाड़ी की चेकिंग क्यों नहीं हुई?Pathankot Airbase Terror Attack

loading...
सेना की वर्दी में आए और एसपी को अगवा करने वाले आतंकियों को न खोज पाना बड़ी नाकामी माना जा सकता है। इस आतंकी हमले की साजिश काफी पहले से चल रही थी। 1965 और1971 मे पाकिस्तान के निशाने पर रहे इस एयरबेस की संवेदनशीलता का अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि पुलिस ने अगस्त 2014 में इस एयरबेस कैंप की जानकारी पाकिस्तान तक पहुंचाने के आरोप में आर्मी के एक जवान को गिरफ्तार भी किया था, फिर भी इस मामले को गंभीरता से नहीं लिया गया।

इसमें कोई दो राय नहीं कि एसपी की गाड़ी में नीली बत्ती होने का बड़ा फायदा आतंकियों को हुआ और गाड़ी बिना किसी चेकिंग के पठानकोट पहुंच गई। इस पूरी घटना (गाड़ी छीनने और आतंकियों की तरफ से फायरिंग शुरू होने के बीच) में तकरीबन 24 घंटे का वक्त बीत चुका था।

Next पर पढ़े  > खुफिया एजेंसियों में समन्वय का भारी अभाव

1 of 3
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें