loading...

Screenshot_1

loading...

जहाजपुर।

 गुजरात के पाटण जिले के राधनपुर-थरा नेशनल हाईवे पर सिनाड़ गांव के पास शुक्रवार शाम ज्योत लेकर लोट रही जीप व ट्रक भिड़त में एक ही परिवार के छह जनों सहित सात लोगों की मौत व चार के गंभीर घायल होने के बाद शक्करगढ़ तहसील के बखेरा गांव में शनिवार को दूसरे दिन भी कोहराम मचा है। हर कोई मोबाइल पर अपने चिर-परिचितों से हाल जानने में जुटा है। मोबाइल की घंटी बजते ही हर कोई उसके पास पहुंचता है तथा हादसे के बारे में जानकारी चाहता है। इधर हादसे में मारे गए लोगों के घरों में महिलाओं का रो-रोकर बुरा हाल है। शुक्रवार देर शाम गांव के लोग मृतकों को गुजरात से यहां लाने के लिए रवाना हो चुके है। नाते रिश्तेदार बखेरा पहुंचे तथा शोकाकुल परिवार को ढांढस बंधा रहे हैं। उधर, शनिवार दोपहर गुजरात के पाटण से मृतकों के शव रवाना हुए जो देर रात तक बखेरा पहुंचेंगे।
                                                  आगे की स्लाइड पर विडियो में देखे 

गौरतलब है कि शुक्रवार शाम करीब पांच बजे गुजरात के  सीनाड में अंबिका मिल के समीप हुए हादसे में  गलत दिशा से आ रहे बेकाबू मिनी ट्रक ने जीप को टक्करमार दी थी। दुर्घटना में जीप में सवार राजस्थान के भीलवाड़ा जिले की जहाजपुर तहसी शक्करगढ़ तहसील के बखेरा निवासी मीणा परिवार के पांच लोगों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि दो अन्य ने उपचार के दौरान पाटण सिविल अस्पताल में दम तोड़ दिया था। घायलों में से चार की स्थिति गंभीर है।
यह परिवार सांतलपुर में धार्मिक कार्यक्रम के लिए लिए यहां आया था। बाद में ये लोग वापस भीलवाड़ा लौट रहे थे। इसी दौरान हादसा हो गया। पुलिस ने मौके से फरार मिनी ट्रक के चालक की तलाश शुरू की है। मृतकों में बखेरा निवासी रामराज मीणा, उनकी पत्नी पांची देवी, भाई बरखालाल, मोहनलाल, बेबलीबाई, धापूदेवी व शक्करगढ़ निवासी जीप चालक बाबूभाई पंचाल की मृत्यु हो गई तथा राजूलाल मीणा, शिवराज मीणा, सोनिया मीणा, रामनारायण मीणा  की स्थिति गंभीर बनी हुई है।
पूरे क्षेत्र में पसरा सन्नाटा
हादसे की खबर से पूरे क्षेत्र में सन्नाटा पसरा है। हर कोई हादसे को लेकर चर्चाएं कर रहा है। नातेदार व रिश्तेदार शोकसंतप्त परिवार को ढ़ाढस बंधा रहे हैं। 
गांव में नहीं जले चूल्हे
घटना के दूसरे दिन भी 150 घरों की बस्ती वाले गांव के किसी के घर चूल्हे नहीं जले। घरों में कोहराम मचा हुआ है। सांत्वना देने वालों की आंखों से भी अश्रुधारा बह रही है।
तहसीलदार व जनप्रतिनिधि पहुंचे मौके पर
हादसे के दूसरे दिन तहसीलदार व जिले के कई जनप्रतिनिधि मौके पर पहुंचे तथा शोक संतप्त परिवार को सांत्वना देते हुए हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया। इधर, कलक्टर डॉ. टीनाकुमार ने भी पाटन के जिला कलक्टर से बात की सभी घायलों को त्वरित उपचार उपलब्ध कराने की व्यवस्था के बारे में जानकारी ली है। 
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें