loading...

army yenk

loading...

JK के पंपोर में सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमले के मद्देनजर गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को मंत्रालय में हाई लेवल मीटिंग बुलाई. इस बैठक में एनएसए अजीत डोभाल के साथ ही रॉ और आईबी चीफ शामिल थे। बैठक में आतंकी वारदात की उच्च स्तरीय जांच के निर्देश दिए गए, वहीं सुरक्षा में चूक को लेकर नीति में कई बड़े बदलाव भी किए गए।

सुरक्षा नीति में बदलाव करने का फैसला

बैठक में कश्मीर की सुरक्षा नीति में बदलाव करने का फैसला किया गया। इसके तहत अब सुरक्षा बल के जवान बिना बख्तरबंद गाड़ियों के साथ नहीं चलेंगे। जबकि काफिले की सुरक्षा की जिम्मेदारी सबसे आगे सेना को दी जाएगी। इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर में सभी अर्धसैनिक बलों के काफिले में सबसे आगे सेना की रोड ओपनिंग पार्टी होगी।

गाड़ियों में लगाए जाएंगे मेटल प्लेट

पंपोर हादसे पर दुख जताते हुए गृह मंत्री ने हमले के दौरान सुरक्षा में हुई चूक की जांच के निर्देश दिए. बैठक में निर्णय किया गया कि अर्धसैनिक बलों के काफिले की गाड़ियों में मेटल प्लेट लगाए जाएंगे, जिससे उन पर गोलियों का असर न हो। साथ ही रोड ओपनिंग पार्टी के माइन प्रोटेक्शन व्हेकिल भेजे जाएंगे ताकि ब्लास्ट से बचा जा सके। रिपोर्ट के बाद तय होगी चूक की जिम्मेदारी पंपोर हमले के बाद गृह मंत्रालय ने अमरनाथ यात्रा को और सुरक्षित करने के लिए अतिरिक्त सुरक्षा बल भेजे हैं। सुरक्षा के लिहाज से हाईवे को सबसे बड़ी प्राथमिकता रखा गया है। मंत्रालय की फैक्ट फाइंडिंग टीम की रिपोर्ट के बाद सुरक्षा नीति और बदलाव हो सकते हैं। बताया जाता है कि रिपोर्ट के बाद ही पंपोर हमले में चूक जिम्मेदारी तय होगी और कार्रवाई की जाएगी।

गौरतलब है कि शनिवार को पंपोर में सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकियों ने हमला किया था, जिसमें हमारे 8 जवान शहीद हो गए। जवाबी कार्रवाई में सुरक्षाबलों ने 2 आतंकियों को मार गिराया।

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...