loading...

वॉशिंगटनपाकिस्तान के परमाणु एवं मिसाइल कार्यक्रम पर चिंता जाहिर करते हुए अमेरिका ने उसे इन कार्यक्रमों पर रोक लगाने के लिए कहा है। इसके साथ ही अमेरिका ने पाकिस्तान से कहा है कि वह ऐसा कोई कदम न उठाए, जिससे परमाणु सुरक्षा और रणनीतिक स्थिरता पर खतरा बढ़े।

अफगानिस्तान और पाकिस्तान के लिए अमेरिका के विशेष प्रतिनिधि रिचर्ड ओल्सन ने सदन की विदेश मामलों की समिति द्वारा पाकिस्तान के मुद्दे पर आयोजित सुनवाई में सांसदों से कहा कि मैं यह कहना चाहता हूं कि हम आपकी चिंताओं से वाकिफ हैं, विशेषकर पाकिस्तान के परमाणु हथियारों के विकास से जुड़ी चिंता से। हमें सबसे ज्यादा चिंता पाकिस्तान के मिसाइल कार्यक्रम की गति और इसके विस्तार को लेकर है, जिसमें परमाणु तंत्र पर काम करना भी शामिल है।

ISLAMABAD, PAKISTAN - MARCH 23: Nasr multi-tube ballistic missile is displayed during the Pakistan Day military parade in Islamabad on March 23, 2015. Pakistan holds its first national day military parade after seven years. (Photo by Metin Aktas/Anadolu Agency/Getty Images)
loading...
ISLAMABAD, PAKISTAN – MARCH 23: Nasr multi-tube ballistic missile is displayed during the Pakistan Day military parade in Islamabad on March 23, 2015. Pakistan holds its first national day military parade after seven years. (Photo by Metin Aktas/Anadolu Agency/Getty Images)

कांग्रेस के सदस्य ब्रियान हिगिंस के एक सवाल के जवाब में ओल्सन ने कहा कि हम इस बात को लेकर चिंतित हैं कि दक्षिण पश्चिम एशिया का पारंपरिक संघर्ष बढ़कर परमाणु शक्ति के इस्तेमाल तक भी पहुंच सकता है क्योंकि बढ़ते जखीरों के चलते सुरक्षा की चुनौतियां बनी हुई हैं। हमने पाकिस्तानियों के साथ उच्चतम स्तर पर बहुत सक्रिय वार्ता की थी, जिसमें हमने हमारी विशिष्ट चिंताएं उनके सामने स्पष्ट कर दी थीं। उन्होंने कहा कि अमेरिका ने पाकिस्तान से उसके परमाणु एवं मिसाइल कार्यक्रमों पर रोक लगाने के लिए कहा है।

उन्होंने कहा कि परमाणु क्षमता से संपन्न सभी देशों की तरह हमने पाकिस्तान से अपील की है कि वह अपने परमाणु हथियारों और मिसाइल विकास पर रोक लगाए। हमने इस बात पर जोर दिया है कि ऐसा कोई भी कदम उठाने से बचा जाए, जो परमाणु सुरक्षा, सुरक्षा या रणनीतिक स्थिरता पर खतरे को बढ़ा सकता हो। उन्होंने कहा कि हम पाकिस्तान के साथ 123 समझौते पर वार्ता नहीं कर रहे हैं।

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें