loading...

नई दिल्ली: 45000 हजार करोड़ कितनी बड़ी रकम होती है जरा सोचिए लेकिन निर्मल सिंह ने 20 साल के अंदर इतनी बड़ रकम जमा कर ली वो भी लोगों को ठग कर। 20 साल पहले उसने एक पॉन्जी स्कीम शुरु की, लोगों से हर महीने छोटी छोटी रकम जमा करनी शुरु की और फिर वो बन गया जालसाजी की सल्तनत का सुल्तान। उसके खड़ा कर लिया अपना पूरा साम्राज्य सिर्फ देश ही नहीं विदेश में तक फैल गया पर्ल्स ग्रुप का जाल।nirmal-singh

loading...
जालसाजी की सल्तनत का सुल्तान है वो :  शायद ही कोई ऐसा धंधा होगा जिसमें 45000 करोड़ की जालसाजी के आरोपी ने रकम नहीं लगाई थी। निर्मल सिंह भंगू पर 6 करोड़ लोगों की गाढ़ी कमाई को ठगी के जरिए हड़पने का सनसनीखेज आरोप लगा है। ये वही शख्स है जिसे देश का सबसे बड़ा जालसाज कहा जा रहा है नाम है निर्मल सिंह भंगू।

 

तकिया बेचने वाले ठग की कहानी : PACL यानी पर्ल्स एग्रोटेक कॉर्पोरेशन लिमिटेड का सर्वे सर्वा है निर्मल सिंह। आज से सिर्फ 20 साल पहले तक इस शख्स को कोई नहीं जानता था। ये साइकिल पर दूध बेचता था, तकिए बेचता था, चंद हजार रुपए की नौकरी करता था लेकिन 20 सालों में इसने अकूत दौलत कमाई 45000 करोड़ रुपए जुटा लिए।

 

आज हिंदुस्तान है कोई ऐसा बड़ा शहर नहीं है, जहां पर पर्ल्स ग्रुप की प्रॉपर्टी नहीं है। फिर चाहे वो देश की राजधानी दिल्ली हो, मुंबई हो, कोलकाता हो, चंडीगढ़ हो य़ा फिर मोहाली हर शहर में मौजूद है निर्मल सिंह का साम्राज्य। दिल्ली  के दिल कनॉट प्लेस में ही पर्ल्स ग्रुप की करीब 61 प्रॉपर्टीज हैं, जिनकी कीमत अरबों में है।

अगली स्लाइड में पढ़िए > दूधवाला कैसे बना खरबपति जालसाज ?

1 of 5
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें