loading...

भारत सरकार के नोटबंदी  के ऐलान के बाद नोट बदलने की प्रक्रिया में अब तक कई मत्वपूर्ण बदलाव किये है. नरेंद्र मोदी  ने 500 और 1000 रुपए के पुराने नोट बंद करने का ऐलान 8 नवम्बर को किया था. इसके बाद लोगों को 31 दिसंबर तक पुराने नोट बदलने या अपने अकाउंट में जमा कराने का समय दिया गया था. फैसले के बाद से ही बैंकों के बाहर काफी बड़ी-बड़ी लाइनें देखने को मिल रही हैं.rs500notes_big759

loading...

ध्यान देने योग्य बात यह है कि मोदी सरकार ने आनन-फानन में नोट बंदी का ऐलान तो कर दिया लेकिन अब तक सरकार के इस नोट बदलने के प्रक्रिया में कई बदलाव कर चुकी है. पहले पुराने नोट बदलने की सीमा 4000 रुपए थे, जिसे बढ़ाकर 4500 रुपए कर दी गई. इसके बाद गुरुवार को यह घोषणा की गई कि शुक्रवार से लोग केवल 2000 रुपए के पुराने नोट ही बदल पाएंगे. आपको बतादें कि आर्थिक मामलों के सचिव शक्ति कांत दास ने कहा था कि बैंक में काउंटर पर पुराने नोट बदलने वालों की उंगुली पर अमिट स्याही लगाई जाएगी, ताकि लोग दोबारा से आकर भीड़ ना बढ़ाएं.

अगले पेज पर पढ़ें नोट बदलने के नियमों में सरकार ऐसा क्या फैसला करने वाली है जिसके बाद हो सकती है आपको परेशानी…

 

Click on Next Button For Next Slide

1 of 3
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें