loading...

आला हजरत दरगाह के सुन्नी बरेलवी मौलवियों के नए फतवे में कहा गया है कि इस्लामी कानून के मुताबिक हज जाने से पहले किसी व्यक्ति को अपने सारे कर्जे चुका देने चाहिए। मौलवियों ने यहां तक कहा है कि सरकार द्वारा लगाए गए सभी तरह के टैक्स भी कर्ज के दायरे में ही आते हैं और इसीलिए मुसलमानों को हज जाने से पहले उन्हें भी क्लियर करना चाहिए। इसमें हाउस और इनकम टैक्स भी आते हैं।muslim_1426089534

loading...
फतवा देने वाले मौलवी मुफ्ती मोहम्मद सलीम नूरी ने कहा, ‘इस्लामी कानून के मुताबिक हज जाने वाले शख्स को अपने सभी कर्जे चुका देने चाहिए। पैगम्बर मोहमम्द साहब ने कहा था कि जब कोई व्यक्ति हज पर जाता है तो वह अल्लाह से मिलने के लिए जाता है। इसलिए उस व्यक्ति पर किसी तरह का कर्ज नहीं होना चाहिए।’

1 of 2
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें