loading...

nazneen

loading...

अयोध्या में राम मंदिर को लेकर लंबे विवाद चल रहा हैं, इस पर सियासत भी खूब होती रही है। अब मुस्लिम महिला फाउंडेशन की राष्ट्रीय अध्यक्ष नाजनीन अंसारी की ख्वाहिश है कि राम मंदिर का मसला अब सुलझ ही जाना चाहिए। नाजनीन अंसारी चाहती हैं अयोध्या की पवित्र भूमि पर राम मंदिर का ही निर्माण हो।

राम मंदिर के निर्माण के लिए नाजनीन अब अयोध्या जाने की तैयारी में हैं जहां वे राम मंदिर मुकदमे के पक्षकार हाशिम अंसारी से मुलाकात करेंगी। उनकी कोशिश है कि हिंदुओं की इस पवित्र भूमि पर भव्य राममंदिर का निर्माण हो। वे हाशिम अंसारी से मुलाकात कर उनसे अपील करेंगी कि अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए न सिर्फ वह साथ दें, बल्कि देश के सभी मुस्लिमों से वे खुद भी अपील करें।

नाजनीन का कहना है कि जिस तरह मक्का मदीना हर मुसलमान के लिए पाक है, वहां कोई दूसरा धर्मस्थल बर्दाश्त नहीं किया जा सकता, उसी तरह अयोध्या हिंदुओं के लिए पाक है। फिर वहां कुछ और कैसे स्वीकार हो सकता है। नाजनीन का कहना है कि अयोध्या भगवान श्रीराम की थी और उन्हीं की रहेगी।

नाजनीन कहती हैं, ‘मंगोलों ने राम मंदिर तोड़ा था लेकिन तोहमत मुसलमानों पर लगाई गई। चंगेज खान का वंशज ही बाबर मंगोल था जिसके पूर्वज हलाकू ने 1258 ई. में इस्लाम के अंतिम खलीफा को मार डाला। इन्हीं मंगोलों की वजह से मुसलमानों का कोई खलीफा नहीं। बाबर के पूर्वजों ने इस्लाम का सत्यानाश किया। बाबर के सेनापति मीर बाकी ने अयोध्या में राम जन्म स्थान पर बने हुए मंदिर को तोड़कर 1528-29 ई. में मस्जिद बनवाई। वह जगह राम मंदिर की थी और रहेगी।’

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें