loading...

phpThumb_generated_thumbnail
loading...
मुंबई। बॉलीवुड के अभिनेता जाति और धर्म जैसी चीजों में बिल्कुल यकीन नहीं करते है। उनका कहना है कि सभी फॉर्म पर मौजूद इस कॉलम को हटाया जाना चाहिए। नाना ने यह बात महाराष्ट्र के कोंकोण में सिंधुदुर्ग स्थित एक स्कूल फंक्शन के दौरान कही है।

समारोह में नाना लोगों से पूछा कि क्या हम सभी भारतीय नही है ? और यदि है तो हम सबका धर्म भी एक ही होना चाहिए। हमारी पहचान एक हिन्दू के रूप में होनी चाहिए न कि हन्दू, मुस्लिम, सिख या ईसाई के रूप में। उन्होंने कहा कि व्यक्ति की पहचान उसके कर्म से होनी चाहिए न कि धर्म से।

नाना ने लोगो से पूछा कि क्या पैदा होते समय किसी को कोई धर्म पता था? उन्होंने कहा, यदि हमारा देश धर्मनिरपेक्ष है तो यहां हर फॉर्म में धर्म और जाति का कॉलम क्यों है? इसे हटाया जाना चाहिए। उन्होंने अपनी बात रखते हुए आगे यह भी कहा कि हर धर्म यही कहता है कि भगवान को अपने अंदर ढूंढो। हमारा काम ही हमारा देवता है।

उन्होंने कहा कि हर किसी में हीरो और विलन दोनों ही मौजूद होते हैं, इसलिए यह आप पर निर्भर करता है कि आप हीरो बनते हैं या फिर विलन। यदि आप इंसानियत की राह पर चलते हैं तो इससे आपको संतुष्टि मिलेगी।

नाना कुछ अच्छे काम के लिए फंड्स इकटठा कर रहे हैं। वह सूखे की मार से पीड़ित किसानों के परिवार की मदद के लिए लोगों से आग्रह कर रहे हैं। नाना ने भरोसा दिलाया है कि ‘नाम’ फाउंडेशन का ब्रांच कोंकण में भी शुरू किया जाएगा।

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें