loading...
एक इस्लामिक धर्म प्रचारक ने कहा कि शादीशुदा औरत पति की जानकारी में आए बिना, सेक्स जिहाद (जिहादे निकाह) कर सकती है। उन्होंने शादीशुदा औरतों के लिए पति की जानकारी में आए बिना सेक्स जिहाद को जायज ठहराया है।
loading...
एक इस्लामिक धर्म प्रचारक ने कहा कि शादीशुदा औरत पति की जानकारी में आए बिना, सेक्स जिहाद (जिहादे निकाह) कर सकती है। उन्होंने शादीशुदा औरतों के लिए पति की जानकारी में आए बिना सेक्स जिहाद को जायज ठहराया है।

फिलिस्तीन :- टीवी शिया जाम न्यूज से प्राप्त समाचार के अनुसार फिलिस्तीन में रहने वाले वहाबी धर्म प्रचारक शेख खबाब मरवान अलअहमद ने ये बात कही है। इस्लामिक धर्म प्रचारक ने कहा कि उस जिहादी स्त्री के लिए जिसने खुदा के लिए पति के अतिरिक्त किसी दूसरे से सेक्स जेहाद करना जायज है लेकिन शर्त यह है कि उसके पति को पता ना चले।

 

इस्लामिक धर्म प्रचारक ने आगे कि छुपाने की शर्त इसलिए लगाई गई है ताकि पति की भावनाओं को ठेस ना लगे, लेकिन अगर पति इस बात की अनुमति दे दे कि उसकी पत्नि एक जिहादी से सेक्स जिहाद करे तो उस स्त्री का यह कार्य केवल खुदा के लिए होगा। स्पष्ट रहे कि इस्लामिक मुफ्की “नासिर अलउमर” जो कि हमेशा सीरिया में सेक्स जिहाद की वकालत करता है, ने इस बार फतवा दिया है कि सीरियाई जिहादी अपनी सगी बहनों से भी शादी कर सकते हैं।
इस वहाबी शेख ने वहाबी चैनल वेसाल पर कहा कि वहाबी मुजाहिद नामहरम स्त्रियों की अनुपस्थिति में अपने महरमों से भी शादी कर सकते हैं। सेक्स जिहाद का फतवा देने वाले शेख मोहम्मद अलअरीकी ने इस फतवे के बाद उठे बवाल को देखते हुए अपने फतवे को वापस ले लिया और कई स्थानों पर कहा है कि उसने इस प्रकार का फतवा नहीं दिया है।
वहीं अलअरीफी ने बवाल के बाद इस फतवे को वापस ले लिया है लेकिन जिन लोगों को यह फतवा अच्छा लगा वह इसको हराम मानने के लिए तैयार नहीं है और अब भी शेख खबाब मरवान अलअहमद और नासिर अलउमर जैस कुछ कट्टपंथी वहाबी इस वहाबी सोंच को सीरियाई आतंकियों में फैला रहे हैं।
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें