loading...

uri-attack-soldiers

अलीगढ़। फोरम फार मुस्लिम स्टैडीज एंड एनालिसिस ने जम्मू-काश्मीर के उरी सेक्टर में सेना मुख्यालय पर हुए आत्मघाती हमले की कड़े शब्दों में निंदा की है। मुस्लिम फोरम ने मांग की है कि पाकिस्तान में चल रहे आतंकवादी प्रशिक्षण केंद्रों पर तुरंत हमला किया जाए। संस्था के निदेशक डॉक्टर जसीम मोहम्मद ने कहा कि इस आत्मघाती हमले से साफ तौर पर साबित होता है कि सरहद के पार भारत के खिलाफ नापाक साजिश रची जा रही है। उसमें पाकिस्तान का खुले रूप से सहयोग कर रहा है।

शहीदों को नमन : जसीम मोहम्मद ने कहा कि इस कायराना घटना का हमारे जवानों ने मुंहतोड़ जवाब दिया और हमला करने वाले चार आतंकवादियों मार गिराया। दुश्मनों से लोहा लेते हुए सेना के 18 वीर जवानों को भी शहादत प्राप्त हुई। मुस्लिम फोरम इन शहीदों का नमन करता है।

पाक में आतंकी केंद्रों पर हो हमला : डॉ जसीम मोहम्मद ने कहा कि मुस्लिम फोरम ने पूर्व मे भी यह कहा है कि आतंकवादी हमले पाकिस्तान से प्रायोजित किए जा रहे हैं। हमें पाकिस्तान में संचालित आतंकवादी प्रशिक्षण केन्द्रों पर सीधा हमला करना चाहिए। वरना इस प्रकार के हमले जारी रहेंगे। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय भारत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में एक आर्थिक शक्ति के रूप में विश्व पटल पर उभर रहा है। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के दिशा निर्देश मे शांति एवं अहिंसा के द्वारा अन्तराष्ट्रीय स्तर पर अपनी स्थित मजबूत कर रहा है। उन्होंने कहा कि इसलिए कुछ देशों को जिनमें पाकिस्तान मुख्य है भारत की सम्पन्नता एवं विकास रास नहीं आ रही है। उन्होंने कहा कि मुस्लिम फोरम देश में इस प्रकार के आतंकवादी हमलों को बर्दाश्त नहीं करेगा।

पाकिस्तान के खिलाफ खड़े हों मुसलमान : जसीम मोहम्मद ने कहा कि मुसलमानों को खुलकर पाकिस्तान के खिलाफ खड़ा होना चाहिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों को मजबूत करना चाहिए। जसीम मोहम्मद ने कश्मीरी लोगों विशेषरूप से युवाओं से अपील की कि वे पाकिस्तान की चालों को समझे और अपने भविष्य के लिए देश की मुख्यधारा से जुड़े। उन्होंने ये भी मांग की है कि संयुक्त राष्ट्र संघ तुरंत पाकिस्तान पर आर्थिक प्रतिबंध लगाये।

हिन्दी की ताजा खबरें अपने फोन पर प्राप्त के लिए Hindi News

loading...
 फटाफट समाचार App डावनलोढ़ करे !

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें