loading...

151220143908_asif_meerut_cow_slaughter_624x351_bbc

“गाय काटने वालों ने मेरे भाई को मार डाला. मैं उनको कैसे छोड़ सकता हूँ?”

मेरठ के तीस साल से भी कम उम्र के आसिफ़ जब ये कहते हैं तो उनका चेहरा ग़ुस्से और ग़म दोनों में तमतमाता दिखता है.

भाई के मौत का ग़म और गाय को काटने वालों के प्रति उनका ग़ुस्सा, क्या ज़्यादा है, इसका अंदाज़ आप लगाते रहिए, तब तक आसिफ़ आपको बीते 18 महीने के दौरान गाय बचाने के लिए किए गए कामों की फ़हरिस्त सुनाने लगते हैं.

मेरठ के सिद्दीक़ी नगर के इस नौजवान ने पिछले कुछ दिनों एक दर्जन के आसपास ऐसे वाहन पकड़वाए हैं जिनपर आरोप है कि वो गायों को काटने के लिए ले जा रहे थे.

इन्होंने अपने साथियों संदीप पहल और राहुल ठाकुर के साथ मिलकर दस के आसपास मिनी कमेले (पशु वधशाला) भी बंद कराए हैं.

संदीप पहल गौ रक्षा के लिए सच के नाम से सोसाइटी चलाते हैं और राहुल ठाकुर ने श्री कृष्णन गौ रक्षा दल बना रखी है जो हज़ारों गायों की जान बचाने का दावा करती हैं.

पूरी खबर को पढ़ने के लिए Next पर क्लिक करे….. 

1 of 4
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

शेयर करें