loading...

narendra-modi

loading...
नितिन श्रीवास्तव/ बीबीसी संवाददाता

भारत की अल्पसंख्यक मामलों की मंत्री नजमा हेपतुल्ला ने कहा है कि दो हफ्ते पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सरकारी नौकरियों में मुस्लिम भागीदारी का डाटा मांगा है। बीबीसी हिंदी से एक खास बातचीत में कैबिनेट मिनिस्टर हेपतुल्ला ने कहा कि भारत में मुसलमानों के पिछड़ेपन के लिए भाजपा नहीं, बल्कि पुरानी सरकारें जिम्मेदार रही हैं।

उन्होंने कहा, “नरेंद्र मोदी ने पता करना चाहा है कि आखिर सरकारी नौकरियों और सर्विसेस (फौज) में मुसलमानों समेत अल्पसंख्यक समुदाय के कितने लोग काम कर रहे हैं। मोदी जानना चाहते हैं मुस्लिमों के कम प्रतिनिधित्व की आखिर वजह क्या रही है?”

दशकों तक कॉंग्रेस पार्टी की सांसद और अब भाजपा की वरिष्ठ मंत्री नजमा हेपतुल्ला का मानना है कि भारत के अल्पसंख्यक समुदायों पर जितना ध्यान दिया जाना चाहिए था उससे कहीं कम दिया गया है। उन्होंने कहा, “मेरे पास हज मंत्रालय भी है और मेरी मुश्किल का अंदाजा इस बात से लगाइए कि मैं पिछले कई दिनों से एक संयुक्त सचिव जैसे वरिष्ठ अफसर की तलाश में हूँ क्योंकि हज का मामला है और वहां आना-जाना भी होगा। इसीलिए मुझे मुस्लिम अफसर चाहिए, जो कि मुझे ढूंढने पर भी नहीं मिल पा रहा है।”

सरकारी प्रतिनिधित्व पर एक रिपोर्ट संसद में पेश

1 of 2
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें