loading...

महिलाओं की माहवारी यानी की, जिसे अंग्रेजी में   Menstrual Periods  कहा जाता है, उसे लेकर भारतीय समाज में कई तरह की अवधारणाएं हैं, लेकिन इसे लेकर अब  समाज प्रगतिशील चर्चा की ओर बढ़ रहा है। bleed

एक तरह से महिलाओं की शारारिक संरचना में प्राकृतिक परिवर्तन का हिस्‍सा रहे इस मासिक परिवर्तन का वैज्ञानिक दृष्‍टिकोण यूं तो बहुत ही सुलझा हुआ है, लेकिन आध्‍यात्‍मिक, धार्मिक और एक तरह से कर्मकांड से रचे-पगे भारतीय समाज में इसे लेकर बहुत ही अलग-अलग तरह की मान्‍यताएं हैं।

ताजा विवाद केरल के सबरीमाला मंदिर का है, जहां से यह महिलाओं की माहवारी के समय उन्‍हें मंदिर में प्रवेश नहीं दिए जाने और प्रवेश से पहले शुद्धता जांचने का फरमान जारी किया गया है। मंदिर के अध्‍यक्ष के इस बयान के बाद एक तरह से पिछले कई दिनों से सोशल नेटवर्किंग साइट्स, और निचले स्‍तर पर चल रही बहस को एक तरह से चर्चा में आने का अवसर मिला है।

आगे पढ़े  >> यह है पूरा मामला

[sam id=”1″ codes=”true”]

1 of 6
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

शेयर करें