loading...

मल+आसन अर्थात मल निकालते वक्त हम ‍जिस अवस्था में बैठते हैं उसे कहते हैं। बैठने की यह स्थति पेट और पीठ के लिए बहुत ही लाभदायक रहती है। मलासन की एक अन्य विधि भी है, लेकिन यहां सामान्य विधि का परिचय।img1131023031_1_1

loading...

विधि : दोनों घुटनों को मोड़ते हुए मल त्याग करने वाली अवस्था में बैठ जाएं। फिर दाएं हाथ की कांख को दाएं और बाएं हाथ की कांख को बाएं घुटने पर टिकाते हुए दोनों हाथ को मिला दें (नमस्कार मुद्रा)। उक्त स्थिति में कुछ देर तक रहने के बाद सामान्य स्थिति में आ जाएं।

: मलासन से घुटनों, जोड़ों, पीठ और पेट का तनाव खत्म होकर उनका दर्द मिटता है। इससे कब्ज और गैस का निदान भी होता है।

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें