loading...

कारगिल युद्ध के बाद वर्षो से चर्चा में रहे कथित ताबूत घोटाले के बारे में हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया है.

आइये जानते हैं क्या था ताबूत घोटाला

भारत और पाकिस्तान के बीच वर्ष 1999 में हुए कारगिल युद्ध के बाद एक बेहद संगीन मामला सामने आया था जिसमें पता चला की शहीदों के लिए खरीदे गये ताबूतों की खरीद-फरोख्त में घोटाला हुआ था, इस मामले से देशवासियों की भावनाएं बुरी तरह आहत हुईं थी। इस तरह की बातें सामने आईं कि युद्ध में शहीद हुए सैनिकों के शव को सम्मानजनक तरीके से घर पहुंचाने के लिए जिन ताबूतों की खरीद हुई, उसमें भारी घोटाला हुआ।
इसी मामले में देश की केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई ने कुछ वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों और अमरीका के एक ठेकेदार के खिलाफ मामला दर्ज किया था। आरोपी अधिकारियों ने वर्ष 1999-2000 के दौरान एेसे 500 अल्यूमुनियम ताबूत और 3000 शव थैले खरीदने के लिए अमेरिका की एक कंपनी के साथ सौदा किया था। कारगिल युद्ध के बाद तब विपक्ष में बैठ रही कांग्रेस ने तत्कालीन रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडीस पर ताबूत आयात में घोटाले का आरोप लगाया था। विपक्ष ने जॉर्ज से इस्तीफे की भी मांग की थी। बाद में इस मामले में उन्हें क्लीन चिट दे दी गई थी।
Image Source : Google Image
Image Source : Google Image

आगे Next पर पढ़े > लम्बा खिंचा केस : लगभग सोलह साल चला

1 of 2
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

शेयर करें