loading...
BEAbea
loading...
नई दिल्ली : गृह मंत्री राजनाथ सिंह से पटियाला हाउस कोर्ट के बाहर पत्रकारों पर हुए हमले की शिकायत करने गए 2 बड़े टीवी चैनलों के पत्रकार आपस में भिड गए। सूत्रों के अनुसार BEA में शामिल कई टीवी चैनलों के पत्रकार गृह मंत्री का इंतज़ार कर ही रहे थे इस दौरान ख़बरों को लेकर हो रही चर्चा के दौरान NDTV की बरखा दत्त और टाइम्स नाउ की नाविका कुमार में बहस हो गई। 
सूत्रों के अनुसार टीवी चैनल NDTV की पत्रकार बरखा दत्त ने टाइम्स नाउ की पत्रकार नाविका कुमार से कहा दिया कि कल तक आप JNU मामले में सरकार के पक्ष की तरफ झुके दिखाई दे रहे थे, आप की खबरें सरकार के पक्ष में दिख रही थी इस पर नाविका ने कहा कि हमें कैसी खबरें दिखानी चाहिए ये किसी से पूछने की जरूरत नही है। हम अपनी ख़बरों को आप से पूछ कर तय नही करेंगे।  
गौरतलब है कि टीवी चैनलों की पहचान इस दौर में सत्ता बदलने के साथ साथ बदलती रही है। आरोप यह भी लगते रहे हैं कि कई टीवी चैनल कांग्रेस के दौर में प्रभावी बन गए थे और अब कई भाजपा की सत्ता के दौरान उसके करीबी हैं। सूत्रों के अनुसार इन दो टीवी चैनलों के पत्रकारों के भिड़ने का कारण भी यही था। 
दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट में देशद्रोह का आरोप झेल रहे कन्हैया कुमार की पेशी के दौरान वकीलों और कुछ अन्य लोगों ने पत्रकारों से मारपीट की थी जिसको लेकर आज ”ब्रॉडकास्ट एडिटर एसोसिएशन (BEA) ने अध्यक्ष NK सिंह की अगुवाई में गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की।
गृह मंत्री से मिले इन चैनलों के पत्रकार : BEA ने राजनाथ सिंह को एक पत्र लिखकर अनुरोध किया कि पटियाला हाउस कोर्ट के बाहर पत्रकारों पर वकीलों द्वारा किये गए हमले की न्यायिक जांच की जाए। गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात के दौरान BEA में शामिल सभी टीवी चैनलों के सदस्य मौजूद थे। जिसमे ABP न्यूज़ से दिबांग, आजतक से सुप्रिया प्रसाद और संजय बरागटा, NDTV से सोनिया सिंह  और बरखा दत्त टाइम्स नाउ से नाविका कुमार और लाइव इंडिया से सतीश के. सिंह मौजूद थे। 
सोशल मीडिया पर टारगेट बनाये जाने की गृह मंत्री से की गई शिकायत जानकारी के अनुसार NDTV के विक्रम चंद्रा ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह से कहा कि सोशल मीडिया में उनके समर्थक लगातार उनके चैनल के खिलाफ अभद्र भाषा का इस्तेमाल करते रहेते हैं। चैनल केर कई पत्रकारों को अपशब्दों का इस्तेमाल किया जाता है तथा उनके चैनल को देश विरोधी बताया जाता है। इसके जवाब में राजनाथ सिंह का कहना था कि सोशल मीडिया किसी के बोलने पर हम पाबन्दी नही लगा सकते और न ही वह उनके समर्थकों को ऐसा करने के लिए कहते हैं।
पत्रकारों ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह से यह भी शिकायत की कि गृह राज्यमंत्री किरण रिजिजू का वह बयान भी सही नही था जिसमे उन्होंने कहा था कि JNU अब देश द्रोहियों का अड्डा बनता जा रहा है। गृह मंत्री से BEA ने यह भी आश्वासन माँगा कि अब ऐसी घटनाएं नही होगी। भले गृह मंत्री ने ऐसा कपि आश्वासन देने से इनकार कर दिया।
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें