जिसे अपनी ढाल बनाया था उसी राम जेठमलानी ने अपने इस बयान से केजरीवाल को कहीं का नहीं छोड़ा!

अरुण जेटली मानहानि केस में केजरीवाल के वकील राम जेठमलानी ने एक बड़ा ही चौंकाने वाला खुलासा किया है जिससे केजरीवाल की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

अरविन्द केजरीवाल ने हाल ही में पूरी दिल्ली की जनता को धोखा दिया है जिसके बाद से अधिकांश लोगों का केजरीवाल से भरोसा उठ गया है l अरविन्द केजरीवाल अपने केस के लिए सरकारी पैसे का इस्तेमाल करना चाहते थे, लेकिन उन्होंने जिस वकील को केस लड़ने के लिए दिया था उन्होंने ही केजरीवाल के बारे में ऐसा खुलासा किया है कि अब उनका बचना नामुमकिन है l

राम जेठमलानी ने अपने एक बयान में कहा है कि “मैंने आडवाणी, अमित शाह और बाल ठाकरे जैसे बड़े नेताओं के लिए भी केस लड़ा है लेकिन उनसे एक रुपया भी फीस के नाम पर नहीं लिया। केजरीवाल के मामले में सफाई देते हुए उन्होंने कहा कि मैंने तो केजरीवाल से भी फीस के लिए नहीं कहा था लेकिन जब उन्होंने मुझपर जोर डाला तो मैंने बिल बनाकर भेज दिया।” इसके साथ ही जेठमलानी ने ये भी कहा कि उन्होंने केजरीवाल को फीस में डिस्काउंट दिया है।

इसके बाद उन्होंने बताया कि, मैं अन्य क्लायंट्स से कई तरह के टैक्सेज की फीस लेता हूं,वो भी मैंने मांगी ही नहीं है,  ।उन्होंने केजरीवाल को पेशी की फीस भी कम बताई है। इसके अलावा हर पेशी के बाद होने वाली कॉन्फ्रेंस के लिए भी मैंने कोई पैसा नहीं मांगा है।

जेठमलानी फीस के लिए दवाब नही डाल रहे तो केजरीवाल सरकारी खजाने से पैसा क्यों निकालना चाहते हैं? जब जेठमलानी फीस में रियायत भी दे रहे हैं तो आखिर केजरीवाल 3.8 करोड़ का बिल LG के पास क्यों भेज रहे हैं? कहीं जेठमलानी के नाम पर केजरीवाल जनता का पैसा तो नही खाना चाहते?a

आपको बता दें कि फीस मुद्दे पर जब विवाद ज्यादा बढ़ गया था तो राम जेठमलानी ने कहा था कि अगर दिल्ली सरकार उनकी फीस देने में अक्षम है, तो वह मुफ्त में केजरीवाल के केस लड़ेंगे। उन्होंने तंज कसते हुए कहा था कि मैं गरीबों का केस मुफ्त में लड़ता है और केजरीवाल को गरीब मानकार ही केस लडूंगा l