loading...

‘देशद्रोह’ पर सियासत में भूल गए हरियाणा की ये दिल दहलाने वाली घटना!

loading...
जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में देश विरोधी नारे के आरोप के बाद ऐसा लग रहा है कि पूरा देश दो विचारधाराओं में बंट गया है, कोई देशभक्त बन गया है तो कोई देशद्रोही। मीडिया से लेकर बुद्धजीवियों तक सब का ध्यान देश के अन्य मुद्दों से हटकर इसी पर केंद्रित हो गया। लेकिन इन सबके बीच देश में एक ऐसी भी घटना हुई जिसे जानकर आपका सिर शर्म से झुक जाएगा। मानवता को शर्मसार करने वाली यह घटना हरियाणा के जाट आरक्षण की मांग को लेकर हो रहे आंदोलन के दौरान की है।

देश में कन्हैया और उमर खालिद को राष्टद्रोह के केस में कड़ी से कड़ी सजा की मांग की जा रही है वहीं दूसरी तरफ उन आंदोलनकारियों के साथ क्या सलूक होना चाहिए जिसने आंदोलन की आड़ में न सिर्फ लूट-पाट को अंजाम दिया, बल्कि निर्दोष महिलाओं को कार से खींचकर गैंगरेप जैसे कुकृत्य को अंजाम दिया। बीफ मुद्दे पर कोहराम मचा देने वाली राज्य की खट्टर सरकार इस मुद्दे पर कार्रवाई के लिए इतनी उतावली क्यों नहीं दिख रही है?

क्या विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र में वोटबैंक की राजनीति इस कदर हावी है कि आंखों के सामने मानवता का कत्ल किया जा रहा हो और सरकारी एजेंसियां बस इसे अफवाह करार देकर पल्ला झाड़ लें? इस पूरे मामले की शुरुआत तब हुई जब कुछ मीडिया खबरों के जरिए बताया गया कि बीते हफ्ते से हरियाणा में जारी जाट आंदोलन के दौरान मुरथल हाईवे पर कथित रूप से 10 महिलाओं के साथ गैंगरेप किया गया। खबर के सामने आते ही तूफान मच गया।

1 of 3
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें