loading...

नई दिल्ली। इस्लामिक स्टेट (IS) के धर्मशास्त्रियों ने एक फतवा जारी कर कहा है कि जिन महिलाओं को चरमपंथी गुटों ने दास बनाया है उनके मालिक उनसे सेक्स कर सकते हैं। IS ने इसमें विस्तार से हर बात को लिखा है। यह फतवा भी उन्‍हीं दस्‍तावेजों में मिला है, जो इस साल मई में सीरिया स्थित ISIS ठिकाने पर छापेमारी के दौरान अमेरिकी सेना ने बरामद किए थे।sex-slave

loading...
इस्‍लामिक स्‍टेट के धर्मशास्त्रियों ने इस फतवे में जो बातें कहीं हैं, वे पुराने दावों से अलग हैं। इससे साफ हो गया है कि आईएस सेक्स दासियों के साथ सदियों पुराने होने वाले व्यवहार की फिर से व्याख्या कर रहा है। सीरिया और इराक के बड़े हिस्से पर आईएस का कब्जा है और यहीं की महिलाओं को इस खूंखार आतंकी संगठन ने बंधक बनाकर रखा है।

इस फतवे में पिता और बेटे को एक ही महिला के साथ सेक्स करने की मनाही है लेकिन एक पुरुष महिला और उसकी बेटी के साथ सेक्स कर सकता है। कैद महिलाओं के संयुक्त मालिकों को भी सेक्स करने की छूट है। यहां ऐसा माना गया है कि उस महिला पर संयुक्त स्वामित्व है।

Next पर क्लिक करके पूरी जानकारी जरूर पढ़े…. 

1 of 2
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें