loading...

mukesh

loading...

वह बच्चों के लिए शक्तिमान हैं और बुजुर्गों के लिए भीष्म पितामह। मुकेश खन्ना के चाहने वाले उन्हें हमेशा पर्दे पर देखना चाहते हैं लेकिन वह कहते हैं कि निगेटिव किरदार उन्हें सूट नहीं करते इसलिए वह बहुत से रोल करने से मना कर देते हैं।

करीब 25 साल पहले टीवी पर जब सफेद दाढ़ी वाले पितामह हाथ उठाकर ‘आयुष्मान भव:’ कहते थे तो आशीर्वाद पाने वालों के चेहरों पर एक सुकून नजर आता था। वही भीष्म पितामह, शक्तिमान बनकर गोल-गोल घूमकर जब गायब हो जाते तो टीवी के सामने बैठे बच्चे खूब तालियां बजाते थे। टेलिविजन के दो अलग किरदार निभाने वाले मुकेश खन्ना आज भी लोगों के दिलों में अपनी जगह बनाए हुए हैं। सीएमएस के इंटरनैशनल चिल्ड्रन फिल्म फेस्टिवल में शामिल होने लखनऊ पहुंचे मुकेश खन्ना ने जिंदगी के ऐसे कई अनुभव शेयर किए।

1 of 3
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें