भारत बना रहा है भगवान विष्णु के ‘सुदर्शन चक्र’ जैसा वार करने वाला अचूक मिसाइल

सुदर्शन चक्र

Read Also : राजीव दीक्षित के समर्थक युवाओं का अंतरिक्ष से बिजली बनाने का फार्मूला, इसरो भेजा प्रस्ताव

नई दिल्ली : रक्षा, मिसाइल और अंतरिक्ष के क्षेत्र में रोज नए कीर्तिमान बनाने वाला हिंदुस्तान अब ऐसी मिसाइल बनाने जा रहा है जो दुश्मनों पर हमला करने के बाद वापस अपने खेमे में वापिस भी आ जाएगी। हाँ ये हैरान कर देने वाली बात जरूर है, लेकिन ऐसा भारत के लिए इस वक्त असंभव नहीं है।

Read Also : अंतरिक्ष की दुनिया में बढ़ी भारत की हिस्सेदारी, 104 सेटेलाइट भेज कमाये 100 करोड़

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के विज्ञान मेले में पहुंचे डीआरडीओ के विशिष्ट वैज्ञानिक और ब्रह्मोस के सीईओ सुधीर कुमार मिश्रा ने बताया कि यह प्रोजेक्ट तैयार है, केंद्र सरकार की अनुमति मिलते ही हम काम शुरू कर देंगे। यह पूरा प्रोजेक्ट पूरी तरह खुफिया रहेगा। अभी तक ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल की मारक क्षमता सिर्फ 290 किमी किमी प्रति घंटा है लेकिन इसे बढ़ाकर 450 किमी प्रति घंटे करने की योजना है। उन्होंने बताया कि इसका परीक्षण मार्च के दूसरे हफ्ते में किया जाएगा। पिछले साल गोवा में हुए सॉर्क सम्मेलन में इसकी मारक क्षमता को बढ़ाने की अनुमति मिली थी।

Read Also : भारतीय स्कूलों के पाठ्यक्रम में पढ़ाया जाना चाहिए रामायण-महाभारत : शशि थरूर

मिश्रा जी ने बताया कि हम मार्च के अंतिम सप्ताह में 1000 हजार किमी प्रति घंटे की क्षमता वाले ब्रम्होस मिसाइल का परीक्षण करने वाले हैं। भारत वर्तमान में मिसाइल टेक्नोलॉजी कंट्रोल रेजिम (एमटीसीआर) का मुख्य सदस्य बन चुका है। इस समूह में अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, ब्रिटेन और कनाडा समेत कई देश शामिल हैं।

Read Also : रिकॉर्ड 104 सैटेलाइट लॉन्च का ISRO ने जारी किया चुभने वाला सेल्फी वीडियो

मिश्रा ने कहा कि भारत और दुनिया के पास अभी तक ऐसी मिसाइलें हैं, जो लक्ष्य पर प्रहार कर वहीं समाप्त हो जाती हैं, लेकिन भारत ठीक वैसी मिसाइल बनाना चाहता है, जैसे सुदर्शन चक्र दुश्मन पर वार कर वापस लौट आता था। हमारी परंपरा वैदिक और आध्यात्मिक रही है, तो इस मिसाइल का विचार भी भगवान कृष्ण के सुदर्शन चक्र से लिया गया है।

Read Also : देखिये ! कैसे अपने हथियार बेचने के लिये किसी भी हद तक जा सकता है अमेरिका !!

ताजा योजना के अनुसार मिसाइल की गति 5 मैक तक करने की है और इस पर अगले दो से तीन साल में काम पूरा होने की उम्मीद है। अभी ब्रह्मोस की मारक क्षमता 300 किमी है और स्पीड 2.08 मैक। एक मैक का अर्थ होता है ध्वनि के बराबर की गति। मिश्रा ने बताया कि मिसाइल 10 मीटर तक नीचे आ सकती है और इतनी देर में दुश्मन को अंतिम प्रार्थना करने का भी वक्त नहीं मिलता। मिश्रा ने इस बेहतरीन मिसाइल को तैयार करने का श्रेय डा. एपीजे अब्दुल कलाम को दिया।

Read Also : ब्लॉग: किताब की नहीं अपने दिल और अंतरात्मा की आवाज़ सुनो

Read Also : जवान वीरगति को प्राप्त होते हैं, उसका कारण युद्ध है या गले की फाँस बन गया पाकिस्तान

Read Also : घोटाला बोलता है: कागजों पर हाईवे दिखाकर लूटे 455 करोड़ रुपये